Sunday, 02 October 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
साहित्य
  • खबरें
  • लेख
गजपति: राज्य विहीन राजा पुस्तक का विमोचन जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 21, 2022
भगवान जगन्नाथ के प्रथम सेवक (आद्य सेवक) गजपति को अपने लिए किसी राज्य की आवश्यकता नहीं है।' यह कहना है प्रसिद्ध विद्वान डॉ कर्ण सिंह का। दिल्ली में अंग्रेजी में लिखित 'गजपति: किंग विदाउट किंगडम' पुस्तक के लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित डॉ सिंह ने कहा कि ब्रह्मांड नियंता ईश्वर श्री जगन्नाथ के करीबी सहयोगी के रूप में, पूरा ब्रह्मांड उनके आध्यात्मिक शा ....  समाचार पढ़ें
चंदौली: हिंदी दिवस विशेष 14 सितबंर जानिए अधिवक्ताओं की राय  अमिय पांडेय  ,  Sep 14, 2022
हिंदी दिवस 14 सितबंर का दिन वाकई हर भारतवासी के लिए गर्व का दिन है। ये पूरे देश को एक रखने वाली भाषा हिंदी का दिन है। सांस्कृतिक विविधताओं से भरे देश भारत में हिंदी दिवस के दिन की अहमियत बहुत ज्यादा है। चंदौली न्यायालय परिसर में अधिवक्ता समाज भी हिंदी दिवस के माध्यम से अपना संदेश देने की कोसिस कर रहा है।हिंदी राष्ट्र भाषा पर गौर भी कर रहा है ....  समाचार पढ़ें
हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के पैरोकार एकमात्र अहिंदी भाषी लक्ष्मी नारायण साहू  गौरव अवस्थी ,  Sep 13, 2022
हिंदी को राजभाषा या राष्ट्रभाषा बनाए जाने के प्रश्न पर संविधान सभा की तीन दिन तक चली गर्मागर्म बहस में 13 सितंबर की तारीख भी अहम थी। इस प्रश्न पर बहस ....  समाचार पढ़ें
संविधान सभा में आज ही शुरू हुई थी हिंदी राजभाषा के प्रश्न पर बहस गौरव अवस्थी ,  Sep 13, 2022
संविधान सभा में हिंदी को राजभाषा बनाए जाने के तैयार किए गए मसौदे पर आए 300 से अधिक संशोधनों पर दिलचस्प बहस आज ही शुरू हुई थी। हिंदी और अहिंदी भाषी राज्यों के प्रतिनिधियों के बीच गरमागरम यह बहस लोकसभा सचिवालय द्वारा 1994 में प्रकाशित की गई 'भारतीय संविधान सभा के वाद विवाद की सरकारी रिपोर्ट' का अहम दस्तावेज है। हिंदी को राज या राष्ट्रभाषा बनाए जाने से जु ....  समाचार पढ़ें
साहित्य अकादेमी द्वारा वर्ष 2022 के युवा पुरस्कारों एवं बाल साहित्य पुरस्कारों की घोषणा जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 24, 2022
साहित्य अकादेमी के अध्यक्ष डॉ. चंद्रशेखर कंबार की अध्यक्षता में अकादेमी के कार्यकारी मंडल की नई दिल्ली में संपन्न बैठक में आज साहित्य अकादेमी युवा पुरस्कार (2022) एवं बाल साहित्य पुरस्कार (2022) की घोषणा की गई। इन पुरस्कारों के लिए पुस्तकों का चयन त्रिसदस्यीय निर्णायक मंडल ने निर्धारित चयन प्रक्रिया का पालन करते हुए बहुमत अथवा सर्वसम्मित के आधार पर किया है। ....  समाचार पढ़ें
20 अगस्त: तारीख जो तवारीख बन गई गौरव अवस्थी ,  Aug 20, 2022
इतिहास में 20 अगस्त का अपना अलग ही महत्व है। साहित्य की इस 'सरस्वती' का उद्गम 20 अगस्त 1899 को ही हुआ था। वैसे, उद्गम का अर्थ स्थान से जोड़ा जाता है लेकिन साहित्य की 'सरस्वती' के उद्गम का अर्थ यहां तारीख से है। यह वही तारीख है जो आधुनिक हिंदी साहित्य की तवारीख बन गई ....  समाचार पढ़ें
छठा वाणी फ़ाउण्डेशन गण्यमान्य अनुवादक पुरस्कार 2022 जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 14, 2022
6वाँ वाणी फ़ाउण्डेशन विशिष्ट अनुवादक पुरस्कार अनुवादक, लेखक और शिक्षाविद् अरुणावा सिन्हा को आज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल, मुग़ल टेंट में वाणी प्रकाशन ग्रुप और जयपुर बुक मार्क की ओर से तथा टीमवर्क आर्ट्स के सहयोग से यह पुरस्कार प्रदान किया गया, पुरस्कार स्वरूप 1 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि ....  समाचार पढ़ें
साहित्योत्सव 2022 का चौथा दिन, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर साहित्य का प्रभाव विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 14, 2022
साहित्य अकादेमी के साहित्योत्सव के चौथे दिन का मुख्य आकर्षण तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ था, जो 'भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर साहित्य का प्रभाव' विषय पर केंद्रित है। संगोष्ठी का उद्घाटन वक्तव्य देते हुए प्रख्यात हिंदी कवि, समालोचक एवं अकादेमी के महत्तर सदस्य विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने कहा कि स्वाधीनता मानवीय शब्दकोश का सबसे पवित्र शब्द है। उसकी चेतना, मनुष्य ही नहीं जीव मात्र में नैसर्गिक रूप से विद्यमान होती है। वह मनुष्य का चरम मूल्य है। दुनिया भर के मनुष्य ने स्वाधीनता के लिए जितने बलिदान दिए हैं, शायद ही किसी अन्य ....  समाचार पढ़ें
आचार्य द्विवेदी के रास्ते पर चलकर ही बनेगी हिंदी संसार की भाषा जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 10, 2022
विश्व हिंदी दिवस सोमवार को आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति अमेरिकी इकाई की प्रथम वर्षगांठ के रूप में ऑनलाइन मनाया गया। इस अवसर पर 'वर्तमान में द्विवेदी युग की प्रासंगिकता ....  समाचार पढ़ें
साहित्य अकादेमी के मुख्य पुरस्कार, युवा पुरस्कार एवं बाल साहित्य पुरस्कार 2021 की घोषणा जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 31, 2021
मुख्य पुरस्कार विजेता को पुरस्कार स्वरूप एक उत्कीर्ण ताम्रफलक, शॉल औरएक लाख रूपये की राशि तथा युवा पुरस्कार, बाल साहित्य पुरस्कार विजेताओंको एक उत्कीर्ण ताम्रफलक और 50,000/- रु. की राशि बाद में आयोजित होनेवाले एक विशेष समारोह में ....  समाचार पढ़ें
साहित्य अकादेमी का साहित्योत्सव 2021 संपन्न जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 14, 2021
साहित्य अकादेमी द्वारा आयोजित किए जा रहे 'साहित्योत्सव 2021' के अंतिम दिन अनुवाद पुरस्कार 2019 से पुरस्कृत अनुवादकों ने अपने रचनात्मक अनुभव साझा किए। इस अनुवाद सम्मिलन की अध्यक्षता ....  लेख पढ़ें
ओड़िया कहानी: खोज   मूलः वरदा प्रसन्न महांति, अनुवाद- सुजाता शिवेन ,  Dec 31, 2020
कॉलेज के युवाओं के लिए उच्च शिक्षा का आखिरी साल हमेशा भविष्य के सपनों को लेकर उलझा रहता है. प्रशासनिक सेवाओं के आकर्षण ने शोध जैसे महत्त्वपूर्ण अकादमिक कार्य को कैसे हाशिए पर डाला है, उसे ही उजागर करती विचारोत्तेजक कहानी ....  लेख पढ़ें
रिश्ता बनारस से बुनकर का माइटी इक़बाल  ,  Sep 27, 2020
चलते चलते यह भी कहता चलूं की प्रदेश सरकार के मुखिया बुनकर हित मे बिजली की या अन्य जो भी योजना लाएं,यह तय तो होना ही चाहिए कि इसका लाभ उन गरीब बुनकरों को प्राप्त हो जो रोज कमाने खाने वाले बुनकर हैं ,या जो बुनकर दो एक पावर लूम चला कर अपना धंधा करते है ना कि उन अ ....  लेख पढ़ें
बी.एच.यू मेरी साँसों में बसता है डॉ महबूब हसन ,  Jun 01, 2020
अज़ीज़ दोस्तों! बी.एच.यू. मेरे लिए हसीन यादों का एक बेश-किमती एल्बम है..कोलाज़ है, जिस में ज़िन्दगी के सारे रंग मौजूद हैं। बी.एच.यू. मेरी साँसों में बसता है! मेरे दिल की धड़कनों में शामिल है। बी.एच.यू. मेरी मुहब्बत है, मेरा इश्क़ है, मेरा जुनून है। ऐसा इश्क़ जिस ने मुझेख़ुशी व कामयाबी की नई न ....  लेख पढ़ें
ऐसा देश है मेरा: डॉ महबूब हसन ने क्या खूब लिखा   Desk JJ ,  Apr 24, 2020
ज़रा गौर से इन तस्वीरों को देखिए। इन तस्वीरों में हज़ारों बरस की मिली जुली आपसी तहज़ीब, संस्कृति, भाईचारा और प्रेम की एक लंबी दास्तान सिमट आई है। इसे गंगा जमुनी तहजीब भी कहते हैं। यहां की मिट्टी और कण कण में ये खुशबु रची बसी है। हिंदुस्तानी समाज का ताना बाना प्रेम और सौहार्द के धागों से ही तैयार हुआ है। हमने पूरी दुनियाँ को विश्व बंधुत्व और वसुधैव कुटुम्बकम का जैसा प्यारा संदेश दिया। होली, ईद, दशहरा, दीवाली और मोहर्रम जैसे त्योहार इस धागे को और मजबूत करते हैं। अनेकता में एकता की ऐसी खूबसूरत मिसाल पूरी दुनिया में कहीं भी नज़र नहीं आती। यहां हज़ारों भाषाएं और बोलियों में देश की एकता और अखण्डता के सुरीले गीत बजते हैं। संतों, सन्यासियों और फकीरों ने अपने पैगाम के जरिए इंसानियत और धार्मिक सौहार्द के दीप जलाए। प्रकृति ने भी सुंदर पहाड़ियों, ....  लेख पढ़ें
साहित्यकार भी, समाजसेवी भी और सबसे बढ़कर मां: महाश्वेता देवी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 14, 2019
आज महाश्वेता का जन्मदिन है. अगर वह जिंदा होतीं, तो 93 की होतीं. अपने नाम की ही तरह साफ, उजली और सफ्फ़ाक. उन्होंने ताउम्र लेखन व संघर्ष उनके लिए किया जो जूझ रहे थे अपनी पहचान के लिए. इसीलिए वह बड़ी साहित्यकार थीं. शिक्षक भी समाजसेवी भी. किसी एक खांचे में उन्हें अलग करना मुश्किल है. वह मां थी, एक दो की नहीं हजार चौरासी की मां... अनगिनत की मां. ....  लेख पढ़ें
किस्सा-ए-बैरागी जी! गौरव अवस्थी की श्रद्धांजलि गौरव अवस्थी ,  May 14, 2018
देश के सुप्रतिष्ठित कवि और उससे भी अधिक हंसमुख एवं सभी के सहयोग में तत्पर रहने वाले सरलता से हमेशा लबरेज रहने वाले आदरणीय बालकवि बैरागी जी हमारे पिता की तरह थे. जो स्नेह हमें अपने पिता से मिला वही बैरागी जी से भी लगातार मिलता रहा. ऐसे स्नेहिल स्वभाव के बैरागी जी से जुड़ा यह किस्सा डॉ शिवमंगल सिंह सुमन के मुंह से कभी बाल्यकाल में सुना था. ....  लेख पढ़ें
विश्व पुस्तक व कॉपीराइट दिवस विशेष:दुनिया को जोड़तीं हैं किताबें ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना ,  Apr 23, 2018
साथियों हमारे देश को विश्वगुरू इसलिए कहा जाता है कि हमारे देश की नींव प्रेम, सम्मान, ज्ञान और विज्ञान के प्रतीक महान वेदों, पुराणों, श्री रामायण,श्री भगवद्गीता, महाभारत, श्रीभागवत् महापुराण, कुरान,बाईविल, जेंद आवेस्ता वस्ता, गुरू ग्रंथ साहिब जैसे ज्ञान, वैराग्य, प्रेम, शांति और जीवन आनंद के कभी न खत्म होने वाले अनमोल खजानों से ....  लेख पढ़ें
राष्ट्रपति बनने की अनिच्छा, दोस्तों की बीवियों पर डोरेः फायर एंड फ्यूरी: इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस- पुस्तक अंश जनता जनार्दन डेस्क ,  Jan 05, 2018
डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बनना नहीं चाहते थे. ये दावा अमेरिकी पत्रकार ने अपनी किताब में किया है. अमेरिकी पत्रकार की किताब के मुताबिक, पिछले साल आश्चर्यजनक चुनावी जीत के बाद अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप की आंखों में आंसू थे, लेकिन वो खुशी के आंसू नहीं थे. ....  लेख पढ़ें
'घर की औरतें और चांद': रेणु शाहनवाज़ हुसैन के काव्य संग्रह पर एक चर्चा विम्मी करण सूद ,  Nov 17, 2017
'जैसे' और 'पानी प्यार' के बाद रेणु शाहनवाज़ हुसैन का अगला काव्य संग्रह आने को तैयार है जिसका नाम है 'घर की औरतें और चांद' । हाल ही में रेणु ने 'द रायसन्स' में इस संग्रह में से कुछ कविताएं दोस्तों के बीच साझी कीं। चांद यूं तो प्यार, महबूब का प्रतीक है पर रेणु का चांद उस मरकरी की तरह है जो कल्पना के सांचे में ढलकर वही रूप अख्तियार कर लेता है जो घर की औरतें देखना चाहती हैं… ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल