चण्डीगढ़ में 3.10 लाख रुपये में बिका 'एके-47'

जनता जनार्दन संवाददाता , Oct 10, 2011, 16:07 pm IST
Keywords: Chandigarh   'AK 47'   car   number   चण्डीगढ़   'एके-47'   कार   नम्बर   
फ़ॉन्ट साइज :
चण्डीगढ़ में 3.10 लाख रुपये में बिका 'एके-47'

चण्डीगढ़: आपको यह जानकर आश्वर्य होगा कि चण्डीगढ़ में 'एके-47' की बोली 3.10 लाख रुपये लगाई गई लेकिन इसकी वास्तविक कीमत महज 10,000 रुपये रखी गई थी।

घबराइए मत क्योंकि हम उस एके-47 की बात नहीं कर रहे, जिसे लोग एक खतरनाक हथियार समझते हैं बल्कि यह चण्डीगढ़ में एक कार का नम्बर मात्र है, जिसे पाने के लिए इतनी बड़ी कीमत अदा की गई है।

पंजाब के एक धार्मिक सम्प्रदाय ने शुक्रवार को अपनी कार का नम्बर 'एके-47' पंजीकृत करवाने के लिए नीलामी के दौरान सबसे अधिक बोली लगाई।

चण्डीगढ़ में हाल ही में नए नम्बरों को पंजीकृत कराने के लिए सार्वजनिक तौर पर नीलामी की प्रक्रिया अपनायी गई और इसी के तहत सबसे अधिक कीमत अदा करने वाले के वाहन का नम्बर 'सीएच01-एके-0047' आवंटित किया गया है। इतनी बड़ी बोली एक धार्मिक संगठन की ओर से लगाई गई।

वहीं दूसरी ओर देखा जाए तो इसी धार्मिक संगठन ने 'एके-56' जैसे बहुचर्चित नम्बर को भी अपने नाम से ही पंजीकृत करवाया है। इन नम्बरों की हालांकि वास्तविक कीमत केवल 10,000 रुपये है।

चण्डीगढ़ के पंजीकरण एवं लाइसेंस प्राधिकरण (आरएलए) ने वाहनों की आकर्षक नम्बरों की नीलामी शुरू की थी। नम्बरों की नीलामी प्रक्रिया से प्राधिकरण को 48 लाख रुपये मिले। शुक्रवार को 93 नम्बरों के लिए बोली लगाई गई थी।

इस प्रक्रिया के दौरान 0007 नम्बर की नीलामी 4.21 लाख रुपये में हुई तो 0005 की बोली 3.25 लाख रुपये लगाई गई। 0001 नम्बर की बोली 3.1 लाख रुपये लगाई गई।

प्राधिकरण के मुताबिक 'सीएच-01-एच' श्रृंखला के नम्बरों की नीलामी सात लाख रुपये से शुरू हुई। इस श्रृंखला के 0001 नम्बर की नीलामी सात लाख रुपये, 0009 की और 0007 की 4.5 और 4.25 लाख रुपये में की गई।

आरएलए के एक अधिकारी ने कहा, "लोगों के अंदर वीआईपी और आकर्षक नम्बरों को हथियाने का जूनून सवार है। प्राधिकरण प्रति दो-तीन महीनों में इन नम्बरों की बोली लगाकर काफी राजस्व जुटा लेता है।"

चण्डीगढ़ के निवासी नरेंद्र सिंह शेरगिल ने पिछले साल मई में अपने गाड़ी का नम्बर 0001 रखने के लिए 10 लाख रुपये की बोली लगाई थी, जो अब तक की सबसे अधिक है।

शेरगिल की पत्नी जसकरन कौर कहती हैं, "शुरू में तो मैं काफी आश्चर्यचकित हुई कि शेरगिल ने 0001 नम्बर के लिए इतनी ऊंची कीमत दी है। इस कीमत में हम एक और शानदार कार खरीद सकते थे।"

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack