Sunday, 27 November 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

कोर्ट कमिश्नर पद से हटाए गए अजय मिश्रा, 2 दिन में सर्वे रिपोर्ट पेश

जनता जनार्दन संवाददाता , May 17, 2022, 17:30 pm IST
Keywords: Gyanvapi Mosque row   Varanasi News   Varanasi   Bava Visheswar Varanasi   ज्ञानवापी मस्जिद   वाराणसी कोर्ट  
फ़ॉन्ट साइज :
कोर्ट कमिश्नर पद से हटाए गए अजय मिश्रा, 2 दिन में सर्वे रिपोर्ट पेश ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर वाराणसी कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है. वाराणसी कोर्ट ने बड़ा फैसला देते हुए कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा को पद से हटा दिया है. इसके अलावा वाराणसी कोर्ट की ओर से कोर्ट कमिश्नर को सर्वे रिपोर्ट पेश करने के लिए 2 दिन की मोहलत भी दे दी गई है. लेकिन कोर्ट ने कमिश्नर के सभी अधिकार वापस ले लिए हैं. अब उनकी जगह दो दिन के भीतर विशाल सिंह बतौर कमिश्नर सर्वे रिपोर्ट कोर्ट में पेश करेंगे.


सुनवाई के दौरान कमिश्नर पर जानकारी लीक करने के आरोप लगाए गए थे जिसके बाद कोर्ट ने उन्हें तत्काल प्रभाव से पद से हटा दिया है. कमिश्नर पर पक्षपात करने के आरोप भी लगाए गए हैं. अब बाकी दो अजय प्रताप और विशाल सिंह कोर्ट कमिश्नर पद पर बने रहेंगे. हिन्दू पक्ष ने वुज़ूखाने की जगह पर शिवलिंग दिखने के दावे के बाद दीवार तोड़ने की मांग की है जिस पर कोर्ट बुधवार को अपना फैसला सुनाएगा.


दूसरी ओर इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई जहां मुस्लिम पक्ष ने निचली अदालत के सभी फैसलों पर रोक लगाने की मांग की है. लेकिन कोर्ट वुज़ूखाना सील करने के फैसले को सही ठहराया है और नोटिस जारी किए गए हैं. हालांकि कोर्ट ने कहा कि नमाज पढ़ने से किसी को रोका नहीं जाना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार ने बुधवार तक का वक्त मांगा गया है. सर्वोच्च अदालत में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता यूपी सरकार का पक्ष रख रहे थे. कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के लिए 19 मई की तारीख तय की है. कोर्ट की ओर से जिला प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि किसी को भी नमाज पढ़ने में दिक्कत नहीं आनी चाहिए, डीएम इस बात को सुनिश्चित करें.

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से 1991 के 'प्लेस ऑफ वर्शिप एक्ट' का हवाला दिया गया था और मस्जिद का स्टेटस बदलने के आरोप लगाए गए थे. हालांकि सर्वोच्च अदालत ने मस्जिद के हिस्से को सील करने के फैसले को सही ठहराया है लेकिन आदेश दिया है कि किसी को भी नमाज पढ़ने से रोका नहीं जाना चाहिए. कोर्ट ने वुज़ूखाने वाली जगह को सील करने के फैसले को सही ठहरा दिया है.
अन्य विधि एवं न्याय लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल