Sunday, 23 January 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

यहां आकर लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ दूध के मग टकराते हैं

जनता जनार्दन संवाददाता , Oct 11, 2021, 18:36 pm IST
Keywords: Milk Is Favorate   Milk   Drink Milk   Mily Baby   स्वास्थ्य  
फ़ॉन्ट साइज :
यहां आकर लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ दूध के मग टकराते हैं नई दिल्लीसमाज में शराब को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कहा जाता है बावजूद इसके लोग जमकर इसका सेवन करते हैं. यही नहीं सरकारों को भी शराब की बिक्री से राजस्व के जरिए करोड़ों की कमाई होती है. लेकिन अफ्रीकी देश रवांडा के बार में आजकल शराब और बीयर नहीं बल्कि दूध परोसा जा रहा है. यहां बड़े-बड़े बीयर मग में लोग दूध का लुत्फ उठाते मिल जाएंगे.

वांडा की राजधानी किगाली में ऐसे मिल्क बार ही भरमार हो गई है. यहां आकर लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ दूध के मग टकराते हैं और अपनी सेहत भी बनाते हैं. बार के जिन पिचर में पहले बीयर भरकर आती थी, अब वहां मिल्क निकलता है और ग्राहक पूरे मजे के साथ दूध का मजा लेते हैं. दूध पीना यहां एक तरह का चलन बन गया है और यही वजह है कि ऐसे बार खूब फल-फूल रहे हैं.

न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक दोपहर से लेकर शाम तक मिल्क बार में लोगों की भारी भीड़ रहती है और हर उम्र के लोग यहां आकर दूध पीते नजर आते हैं. बार में आए एक मोटर साइकिल टैक्सी ड्राइवर जीन बोस्को ने बताया कि उसे दूध बहुत पसंद है क्योंकि इससे न सिर्फ तनाव कम होता है बल्कि मन को शांति भी देता है.

करीब सवा करोड़ की आबादी वाले देश रवांडा में दूध एक तरह का लोकप्रिय पेय है और इसके जरिए लोग एक-दूसरे से जुड़ते हैं, उनके करीब आते हैं. साथ में बैठकर दूध पीने की वालों की तादाद काफी तेजी से बढ़ रही है और ऐसे मिल्क बार उन्हें एक तरह का प्लेटफॉर्म मुहैया करा रहे हैं. यहां आपको मेज पर अपने परिवार और दोस्तों के साथ बैठे कई ऐसे लोग मिल जाएंगे जो बार में दूध का आनंद ले रहे हैं. 

रवांडा में बीते एक दशक से ऐसे मिल्क बार आपको हर जगह दिख जाएंगे. यह देश की संस्कृति और इकोनॉमी से जुड़ा मुद्दा है क्योंकि दूध से लोगों का घर चलता है. गाय को लेकर भी यहां के लोगों के दिलों में विशेष स्थान है और गाय को संपन्नता के साथ-साथ प्रतिष्ठा की निशानी के तौर पर देखा जाता है. साल 1994 में नरसंहार में चरवाहे के पेशे से जुड़े लाखों लोगों ने अपनी जान गंवाई, इस त्रासदी से उबरने के बाद सरकार ने गाय को फिर से देश की अर्थव्यवस्था की नींव के तौर पर देखना शुरू किया और हर घर को सरकारी सहायता के जरिए एक गाय दी गई.

स्थानीय सरकार की योजना को साल 2006 में राष्ट्रपति पॉल कागामे ने शुरू किया था और तब से लेकर करीब चार लाख गाय बांटी जा चुकी हैं. इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए सरकारी एजेंसियों के अलावा प्राइवेट कंपनी और बाकी देशों की मदद भी ली जा रही है. 

वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल