Sunday, 27 November 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

संसद की दहलीज तक पहुंचा किसान आंदोलन, आज से जंतर मंतर पर प्रदर्शन

संसद की दहलीज तक पहुंचा किसान आंदोलन, आज से जंतर मंतर पर प्रदर्शन नई दिल्लीः नए कृषि कानून के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज से संसद की दहलीज पर पहुंच गया है. दिल्ली पुलिस ने इस आंदोलन को उसके नए पड़ाव जंतर मंतर पर कुछ प्रतिबंधों के साथ धरना की इजाजत दे दी है. दिल्ली के जंतर-मंतर पर करीब 200 किसान प्रदर्शन करेंगे, ये किसान संसद की तरह होगा. सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से बसों में भरकर किसानों का जंतर-मंतर पहुंचना जारी है.

प्रदर्शनकारियों के साथ मौजूद योगेंद्र यादव ने कहा कि पुलिस द्वारा एक बार फिर बसों की चेकिंग की जा रही है, जिसकी वजह से किसानों को जंतर-मंतर पहुंचने में देरी हुई है. अन्य किसान नेताओं ने कहा कि दिल्ली पुलिस और सरकार बार-बार अपने वादे से मुकर रही है और किसानों को रास्ते में परेशान कर रही है.

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली के टिकरी, सिंघु, गाजीपुर बॉर्डर और जंतर-मंतर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. प्रदर्शन शुरू होने से पहले ही अलग-अलग इलाकों से किसानों का दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है. किसानों का बड़ा जत्था बसों से जंतर मंतर पहुंच रहा है. किसान यहां पर सुबह 11 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक संसद लगा पाएंगे.

किसान नेता राकेश टिकैत गुरुवार सुबह गाजीपुर बॉर्डर से सिंघु बॉर्डर रवाना हुए. राकेश टिकैत के मुताबिक, बसों से सबसे पहले सिंघु बॉर्डर जाया जाएगा. राकेश टिकैत ने कहा कि हमारा संघर्ष पिछले आठ महीने से चल रहा है. हम शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बातों को सरकार के सामने रखना चाहते हैं. किसान नेता ने कहा कि जबतक संसद का सत्र चलेगा, हम लोग जंतर-मंतर पर ही अपनी किसान संसद चलाएंगे.  

किसान नेता प्रेम सिंह भांगू का कहना है कि हमारा अगला लक्ष्य उत्तर प्रदेश है. पांच सितंबर से इसकी शुरुआत होगी, हम बीजेपी को अलग-थलग करना चाहते हैं. तीनों कृषि कानूनों को वापस करने के अलावा कोई रास्ता नहीं है.

किसानों की ओर से पहले ही जंतर-मंतर आने का ऐलान किया गया था. ऐसे में दिल्ली पुलिस के साथ चर्चा चल रही थी, बीते दिन डीडीएमए ने 200 किसानों को प्रदर्शन की इजाजत दी. ये किसान 5 बसों में जंतर मंतर पहुंचेंगे, शाम पांच बजे तक रुकेंगे. दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन को देखते हुए कड़ी सुरक्षा की है, सीसीटीवी से भी नज़र रखी जा रही है.
अन्य देश लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल