Sunday, 26 September 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

मोदी लोगों की जेब काटकर अपना पॉकेट भर रहे हैं: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

जनता जनार्दन संवाददाता , Jul 07, 2021, 18:10 pm IST
Keywords: Mamata Banerjee   Narendra Modi   West Bengal   Delhi India   Elections   Mamata Banerjee CM    PM Modi   टीएमसी   सीएम ममता   
फ़ॉन्ट साइज :
मोदी लोगों की जेब काटकर अपना पॉकेट भर रहे हैं: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने पेट्रोल और डीज़ल की बढ़ती कीमतों को लेकर एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि हफ्ते में चार बार दाम बढ़ते हैं. सीएम ने कहा कि केंद्र लोगों से पेट्रोल और डीज़ल के ज़रिए 3.71 लाख करोड़ कमा चुकी है. सीएम ममता ने सवाल पूछते हुए कहा कि आपको नहीं लगता है कि नरेंद्र मोदी आम लोगों की जेब काटकर अपना पॉकेट भर रहे हैं?  

ममता बनर्जी ने इस दौरान पीएम पर ये कहते हुए भी हमला बोला कि उन्होंने 35 हज़ार करोड़ रुपये कोविड वैक्सीन के लिए रख लिए. उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान उन्होंने धीरे धीरे फंड दिया, एक बार में क्यों नहीं दिया? उन्होंने कहा कि हमने 3 करोड़ के लिए कहा, उन्होंने नहीं दिया और 6 महीने में 2 करोड़ दिए. सीएम ममता ने दावा करते हुए कहा कि उन्होंने अपने राज्यों को ज्यादा पैसै दिए और विपक्षी राज्यों को कम दिए. 

हाल ही में ममता ने लिखी पीएम मोदी को चिट्ठी

हाल ही में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर सीएम ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी और मांग की कि केंद्र की तरफ से पेट्रोल और डीजल पर जो टैक्स लिया जाता है उसको कम किया जाए. सीएम ममता ने पीएम मोदी से अपील किया कि देश में महंगाई का जो ट्रेंड है उसको देखें.

10 और 11 जुलाई को पूरे राज्य में टीएमसी का प्रदर्शन

आपको बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने 10 और 11 जुलाई को पूरे राज्य में विरोध प्रदर्शन करने का फैसला किया है. मंत्री और टीएमसी के पूर्व महासचिव पार्थ चटर्जी ने एलान किया, “पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर 10 और 11 जुलाई को सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन होगा. सभी कोविड -19 प्रोटोकॉल बनाए रखे जाएंगे.”

अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख