Sunday, 26 September 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट पर बीजेपी के वार पर सीएम केजरीवाल का पलटवार

जनता जनार्दन संवाददाता , Jun 25, 2021, 17:50 pm IST
Keywords: Delhi CM   Arvind Kejriwal   Delhi CM   Chif Minister   केजरीवाल   दिल्ली   मीट्रिक टन ऑक्सीजन  
फ़ॉन्ट साइज :
ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट पर बीजेपी के वार पर सीएम केजरीवाल का पलटवार

नई दिल्ली: बीजेपी ने कथित ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट का हवाला देते हुए दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. बीजेपी का कहना है कि दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की जरूरत से चार गुना अधिक मांग की थी और उनके इस ‘झूठ’ के कारण कम से कम 12 राज्यों में जीवन रक्षक ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित हुई.

इन दावों को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खारिज किया है. सीएम ने कहा, ''मेरा गुनाह-मैं अपने 2 करोड़ लोगों की साँसों के लिए लड़ा. जब आप चुनावी रैली कर रहे थे, मैं रात भर जग कर ऑक्सीजन का इंतज़ाम कर रहा था. लोगों को ऑक्सीजन दिलाने के लिए मैं लड़ा, गिड़गिड़ाया. लोगों ने ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खोया है. उन्हें झूठा मत कहिए, उन्हें बहुत बुरा लग रहा है.''

वहीं दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि ऐसी कोई रिपोर्ट है ही नहीं . उन्होंने कहा कि कथित रिपोर्ट बीजेपी मुख्यालय में तैयार की गई है.

सिसोदिया ने कहा, ‘‘हमने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित ‘ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी’ के सदस्यों से बात की है. उन्होंने कहा कि ऐसी किसी रिपोर्ट पर उन्होंने हस्ताक्षर नहीं किए हैं. बीजेपी झूठी रिपोर्ट पेश कर रही है, जो उसकी पार्टी मुख्यालय में तैयार की गई है. मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि ऐसी रिपोर्ट पेश करें, जिस पर ‘ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी’ के सदस्यों ने हस्ताक्षर किए हों.’’

बीजेपी का दावा

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि दूसरी लहर के दौरान जब संक्रमण के मामले चरम पर थे तब दिल्ली सरकार ने 1,140 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग की थी जबकि वह 209 मीट्रिक टन का भी इस्तेमाल नहीं कर पायी थी.

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के फार्मूले के मुताबिक भी देखा जाए तो उसे 351 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत थी जबकि केंद्र सरकार के आकलन के मुताबिक जरूरत 209 मीट्रिक टन की थी और केजरीवाल सरकार ने 1,140 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता जताई थी.

बता दें कि दिल्ली में अप्रैल और मई में कोविड-19 की दूसरी लहर का बहुत बुरा असर हुआ था. इस दौरान शहर के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण रोजाना कई लोगों की मौत हुई थी.

अन्य दिल्ली, मेरा दिल लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख