Tuesday, 16 August 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

अस्थायी रूप से अमरनाथ यात्रा के पंजीकरण पर लगी रोक

अस्थायी रूप से अमरनाथ यात्रा के पंजीकरण पर लगी रोक जम्मू,जेएनएनः जजम्मु कश्मीर में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड ने अमरनाथ यात्रा की पंजीकरण प्रक्रिया को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है. हालात में सुधार होते ही पंजीकरण प्रक्रिया को फिर से बहाल किया जा सकता है. बता दें कि इस बार अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू होनी है, जिसके लिए पहली अप्रैल से पंजीकरण शुरू हो गया था और 15 अप्रैल से ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया भी शुरू हो गई थी.

अमरनाथ तीर्थ यात्रा जो पिछले साल कोरोना महामारी के कारण निलंबित कर दी गई थी, वो इस साल 28 जून को शुरू होने वाली है. देशभर में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (अमरनाथ एसएएसबी) ने गुरुवार को तीर्थ यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है. बोर्ड ने ट्वीट कर कहा है कि देश में कोरोना की स्थिति और सभी आवश्यक एहतियाती कदमों को ध्यान में रखते हुए श्री अमरनाथजी यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन को अस्थायी रूप से निलंबित किया जा रहा है. साथ ही कहा कि स्थिति में सुधार होते ही उसे फिर से खोल दिया जाएगा.

बोर्ड के इस फैसले से 28 जून में शुरु होने वाली पवित्र गुफा की वार्षिक तीर्थयात्रा के एक बार फिर रद्द होने की आशंका भी बढ़ गई है. बीते साल भी पवित्र गुफा की वार्षिक तीर्थ यात्रा को कोविड-19 एसओपी के तहत स्थगित रखा गया था और सिर्फ पवित्र छड़ी मुबारक ही वार्षिक पूजन के लिए पवित्र गुफा में गई थी.

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2019 में श्री अमरनाथ की वार्षिक तीर्थ यात्रा को जुलाई के अंतिम सप्ताह के दौरान आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर कुछ दिन बंद किया गया और अगस्त के पहले सप्ताह उसे आम श्रद्धालुओं के लिए पूरी तरह बंद कर दिया गया. सिर्फ दशनामी अखाड़ा के महंत और बाबा बर्फानी की पवित्र छड़ी मुबारक के संरक्षक महंत दीपेंद्र गिरी को ही पौराणिक मान्यताओं के अनुरुप पवित्र छड़ी मुबारक संग पवित्र गुफा में रक्षाबंधन के दिन पूजा अर्चना के लिए जाने की आज्ञा दी गई थी.
 
इस बार अमरनाथ यात्रा का पंजीकरण अभी तक तीन बैंकों की कुल 446 शाखाओं में किया जा रहा था, जिसमें पंजाब नेशनल बैंक की 316, जम्मू कश्मीर बैंक की 90 और यस बैंक की 40 शाखाएं शामिल थी. इस बार यात्रा 28 जून से शुरू होकर 22 अगस्त को रक्षाबंधन वाले दिन संपन्न होनी है.श्रद्धालुओं को उम्मीद है कि हालात सामान्य होने के उपरांत एक बार फिर से पंजीकरण प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

बोर्ड की ओर से लगातार स्थिति पर नजर रखी जा रही है. कुछ दिन पहले ही सुरक्षाबलों का दल यात्रा मार्ग पर भेज दिया गया है ताकि यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए जा सकें.
अन्य यात्रा & स्थान लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल