Wednesday, 14 April 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

उत्तर प्रदेश सीएम अभ्युदय योजना के तहत पंजीकरण का दूसरा चरण शुरू

उत्तर प्रदेश सीएम अभ्युदय योजना के तहत पंजीकरण का दूसरा चरण शुरू लखनऊः प्रतियोगी परीक्षाओं की नि:शुल्क तैयारी के लिए उत्तर प्रदेश सीएम अभ्युदय योजना के तहत पंजीकरण का दूसरा चरण शुरू हो गया है. प्रतियोगी http://abhyuday.up.gov.in पोर्टल पर 28 फरवरी शाम 8 बजे तक रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. मार्च के पहले सप्ताह में ऑनलाइन परीक्षाएं होंगी. सोमवार को पेश हुए बजट में अभ्युदय योजना के तहत 10 लाख युवाओं को मुफ्त टैबलट देने की भी घोषणा की गई थी.

'सीएम अभ्युदय योजना' के क्रियान्वयन के लिए गठित राज्य स्तरीय समिति के सदस्य और लखनऊ के मंडलायुक्त रंजन कुमार ने बताया कि टैबलट वितरण के लिए पात्रता की शर्तें जल्द जारी की जाएंगी. अब तक 5 लाख से अधिक प्रतियोगियों ने पंजीकरण करवाया है और उनकी क्लासेज शुरू हो गई हैं. इनमें 50 हजार से अधिक प्रतियोगी परीक्षा के आधार पर पहले ही ऑफलाइन क्लासेज के लिए चयनित हो चुके हैं. बाकी 4.50 लाख रजिस्टर्ड प्रतियोगी भी इन परीक्षाओं में शामिल हो सकेंगे.

वहीं यूपी में युवाओं को फ्री टैबलेट पाने के लिए परीक्षा से गुजरना पड़ेगा. योगी सरकार 10 लाख नौजवानों को टैबलेट देने जा रही है. निशुल्क कोचिंग के बाद अब टैबलेट से परीक्षा की तैयारी करने में काफी मदद मिलेगी. इससे काम की पाठ्य सामग्री जुटाने में सहूलियत होगी.विशेषज्ञों के गाइडेंस के साथ टैबलेट देकर वह उन्हें घर बैठे ही एक क्लिक पर दुनिया-जहान की जानकारी बेहतर ढंग से पाने का मौका देगी. वह सिविल सेवा परीक्षा, जेईई, नीट व एनडीए आदि प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी आराम से कर सकेंगे.

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की क्रियान्वयन समिति के सदस्य व लखनऊ के मंडलायुक्त रंजन कुमार ने बताया कि कोचिंग में विद्यार्थी ऑनलाइन के साथ फिजिकल कक्षाएं भी पढ़ रहे हैं. अब फिर से फिजिकल कक्षाओं में दाखिले के लिए छात्र-छात्राएं अपना पंजीकरण कर सकेंग.ऐसे अभ्यर्थी जो ऑनलाइन कक्षाओं के लिए पहले से पंजीकृत हैं, वह भी फिजिकल क्लासेज में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा दे सकेंगे.

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए चलाई जा रही नि:शुल्क कोचिंग में दाखिला पाने वाले विद्यार्थियों को ही टैबलेट मिलेगा. कोचिंग में दाखिला प्रवेश परीक्षा के माध्यम से दिया जाएगा. टैबलेट पाने के लिए यह एक तरह की स्क्रीनिंग परीक्षा होगी. फिर इस कोचिंग में पढ़ रहे युवाओं में से टैबलेट के लिए पात्र मेधावियों का चयन सरकार द्वारा निर्धारित नियम व शर्तों के आधार पर होगा.

पांच व छह मार्च को प्रवेश परीक्षा होगी. प्रदेश सरकार इस कोचिंग के माध्यम से युवाओं की प्रतिभा को तराशकर उन्हें प्रतियोगी परीक्षा में सफलता दिलाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती.
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack