चंदौली: धूमधाम से मनाया गया महाराजा सुहेलदेव जयन्ती समारोह, डीएम एसपी भी हुए शामिल

चंदौली: धूमधाम से मनाया गया महाराजा सुहेलदेव जयन्ती समारोह, डीएम एसपी भी हुए शामिल
चंदौली: जनपद में महाराजा सुहेलदेव जयन्ती समारोह धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर जनपद में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। मुख्य कार्यक्रम तहसील चकिया के खण्ड विकास कार्यालय परिसर में आयोजित हुआ जहां पर चकिया विधायक श्शारदा प्रसाद, डीएम संजीव सिंह, एसपी अमित कुमार, जिला विकास अधिकारी, ब्लॉक प्रमुख ने ब्लॉक परिसर में अमर शहीदों जी की प्रतिमा पर माल्याार्पण किया तथा माॅ सरस्वती एवं सुहेलदेव के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये.


सैयदराजा राजा सुहेलदेव के 1012 वी जयंती समारोह कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए विधायक सुशील सिंह पहुँचे थे।उन्होंने सबसे पहले शहीदो स्थल पर माल्यर्पण किया उसके बाद उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री राज्य के मुख्यमंत्री ने यह कार्यक्रम में शिरकत किया और इतने बड़े पैमाने पर आयोजित किया जो आप सभी के बीच दिख रहा है।साथ ही उन्होंने पूर्व स्वत्रंत्रता संग्राम सेनानी के परिवार वालों को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया है। इस कार्यक्रम का संचालन पत्रकार धीरेंद्र सिंह शक्ति व अध्यक्षता वीरेंद्र कुमार जायसवाल ने किया है।इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से चेयरमैन वीरेंद्र जायसवाल, भाजयुमो उपाध्यक्ष अमित अग्रहरि डाली,राजेश्वर तिवारी,राजकुमार जायसवाल,अंकित जायसवाल,सैयदराजा किड्स पब्लिक स्कूल के प्रबंधक सुशील शर्मा,मंगला रॉय आदि लोग शामिल रहे।


प्रदेश स्तर पर मुख्य कार्यक्रम जनपद बहराइच में महाराजा सुहेलदेव के भव्य स्मारक व चित्तौरा झील की विकास योजना तथा महाराज सुहेलदेव स्वाशासी राज्य चिकित्सा बहराइच के लोकार्पण का मा0 प्रधानमंत्री द्वारा वर्चुवल शिलान्यास कार्यक्रम के साथ शुरू हुआ। 
     
इस अवसर पर डीएम संजीव सिंह ने कहा कि भारत वर्ष के इतिहास में मध्यकाल की ग्यारहवीं शती में उत्तर प्रदेश के बहराइच में महाराजा सुहेलदेव एक प्रतापी राजा हुये थे, जिन्होंने विदेशी आक्रांताओं से भारतीय संस्कृति एवं विरासत की रक्षा की थी। महाराजा सुहेलदेव जी का शौर्य एवं पराक्रम वर्तमान पीढ़ी के लिए एक गौरवशाली उदाहरण है। विदेशी आक्रांताओं से मुकाबला करने के लिए 21 राज्यों का संगठन बनाकर कुशल रणनीतिकार के रूप में विशिष्ट युद्ध कला के माध्यम से उन्होंने विजय प्राप्त की थी। विश्व के इतिहास में एक महत्वपूर्ण संगठनकर्ता के रूप में महाराजा सुहेलदेव का यह कार्य सभी के लिए प्रेरणास्रोत है।
   
विधायक चकिया शारदा प्रसाद ने कहा कि महाराजा सुहेलदेव ने देश की राजनीतिक व सांस्कृतिक सुरक्षा के साथ-साथ जल संरक्षण, गो-संरक्षण एवं जन कल्याण के अनेक कार्य कराये, जिससे आमजन को अत्यन्त लाभ हुआ। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा ऐसे देशभक्त को सम्मानित करने का कार्य किया जा रहा है। वर्तमान सरकार का नारा है सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास। आज महाराज सुहेलदेव की जयन्ती के अवसर पर प्रदेश के समस्त जनपदों में महाराजा सुहेलदेव की जयन्ती मनायी जा रही है। इस अवसर पर एलईडी वैन के माध्यम से मा0 प्रधानमंत्री जी के उद्बोधन का सजीव प्रसारण देखा व सुना गया। महाराजा सुहेलदेव जयन्ती के अवसर पर जनपद के महत्वपूर्ण शहीद स्थलों एवं शहीद स्मारकों पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
       
चकिया में विधायक व जिलाधिकारी सहित अन्य अधिकारियों द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के आश्रितगण को साल भेंट किया गया। 
       
जनपद के विकास खंड धानापुर के ग्राम पंचायत गुरेहू में मुख्य विकास अधिकारी अजितेंद्र नारायण, उपजिलाधिकारी सकलडीहा, खण्ड विकास अधिकारी एवं बड़ी संख्या में क्षेत्रीय जनता की उपस्थिति में महाराजा सुहेलदेव की मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित कर भव्य रुप से जयंती समारोह मनाया गया। शहीद स्मारक स्थल धानापुर में शहीदों के प्रतिमाओं पर माल्यार्पण कर जयंती समारोह का आयोजन किया गया। इसी प्रकार सैयदराजा स्थित शहीद स्मारक स्थल पर  विधायक सुशील सिंह, अपर जिलाधिकारी राजस्व अतुल कुमार, उपजिलाधिकारी सदर एवं क्षेत्रीय नागरिको की उपस्थिति में भव्य रुप से महाराजा सुहेलदेव की जयंती समारोह मनाया गया। चकिया विकास खंड प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक अमित कुमार, पूर्व जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह, ब्लॉक प्रमुख चकिया, उपजिलाधिकारी चकिया, जिला विकास अधिकारी उपायुक्त मनरेगा जिला विद्यालय निरीक्षक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी खण्ड विकास अधिकारी सहित स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के आश्रितगण एवं क्षेत्रीय नागरिक गण उपस्थित थे.
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack