Monday, 18 October 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

उत्तराखंड त्रासदी पर राहुल-प्रियंका गांधी ने जताया दुख

जनता जनार्दन संवाददाता , Feb 07, 2021, 19:00 pm IST
Keywords: प्रियंका गांधी और राहुल गांधी   कांग्रेस   उत्तराखंड के चमोली  
फ़ॉन्ट साइज :
उत्तराखंड त्रासदी पर राहुल-प्रियंका गांधी ने जताया दुख

दिल्ली: उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने की घटना पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने दुख व्यक्त किया है. इस हादसे में भारी तबाही हुई है. अब तक 10 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि करीब 150 लोगों के लापता होने की खबर है. राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में संवेदना प्रकट करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राहत कार्य में हाथ बटाने को कहा है.

राहुल गांधी ने दुख जताते हुए ट्वीट किया, "चमोली में ग्लेशियर फटने से बाढ़ त्रासदी बेहद दुखद है. मेरी संवेदनाएं उत्तराखंड की जनता के साथ हैं, राज्य सरकार सभी पीड़ितों को तुरंत सहायता दें. कांग्रेस साथी भी राहत कार्य में हाथ बटाएं."

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, "उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से आई त्रासदी की खबर बहुत दुखद है. इस मुश्किल समय में पूरा देश उत्तराखंड के निवासियों के साथ खड़ा है. आपदा में फंसे लोगों के लिए मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं. सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से निवेदन है कि राहत और बचाव कार्यों में भरपूर सहयोग करें."

ग्लेशियर फटने से अचानक आई बाढ़

चमोली जिले की ऋषिगंगा घाटी में आज ग्लेशियर टूटने से अलकनंदा और इसकी सहायक नदियों में अचानक आई विकराल बाढ़ के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि नदी के बहाव में कमी आई है, जो राहत की बात है. उन्होंने कहा कि हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है.

रावत ने ट्वीट किया, ''मैंने अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है और स्थिति का सीधे तौर जायजा लेने के लिए प्रभावित क्षेत्र में पहुंच गया हूं. सरकार के सभी स्तरों पर चमोली जिला प्रशासन की मदद की जा रही है. घबराने की कोई बात नहीं है. मैं सभी से अफवाहों पर यकीन नहीं करने की अपील करता हूं.'' उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ''वर्तमान में कोई अतिरिक्त जल प्रवाह नहीं देखा जा रहा है और कहीं भी बाढ़ की स्थिति नहीं है. जल सैलाब नंदप्रयाग से आगे निकल गया है और नदी सामान्य स्तर से एक मीटर ऊपर बह रही है. अलकनंदा के किनारे के स्थित गांवों में कोई नुकसान नहीं हुआ है.''

अन्य आपदा लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल