Wednesday, 20 January 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

तेज प्रताप स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं मगर उन्हें कितनी जानकारी है: मंगल पांडेय

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 08, 2021, 16:47 pm IST
Keywords: Mangal Pandey   Mangal Pandey Bihar   Election   Mangal Pandey Health Minister Bihar  
फ़ॉन्ट साइज :
तेज प्रताप स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं मगर उन्हें कितनी जानकारी है:  मंगल पांडेय

पटना: कोरोना वैक्सीन को लेकर बिहार में सियासत जारी है. आरजेडी नेता तेज प्रताप यादव ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वैक्सीन लगवाने के बाद ही वो कोरोना का टीका लगवाएंगे. इसे लेकर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने उनपर निशाना साधा है.


बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा, ''तेज प्रताप स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं मगर उन्हें कितनी जानकारी है यह बिहार की जनता को अच्छे से पता है. जानकारी ना होने पर बयान देने वालों पर प्रतिक्रिया नहीं करना चाहिए. वो स्वास्थ्य मंत्री थे उन्हें जानकारी होनी चाहिए कि देश के वैज्ञानिकों ने इस वैक्सीन को बनाया है. तेज प्रताप देश के वैज्ञानिकों पर सवाल उठा रहे हैं जो सही नहीं है.''


बिहार में 97.08% रिकवरी रेट है- मंगल पांडेय


मंगल पांडेय ने कहा, ''किसी को बयान देने से कोई रोक नहीं सकता, ये शुद्ध वैज्ञानिकों के द्वारा तैयार की गई वैक्सीन है. देश में जो भी टीका बनता है वह सब चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किया जाता है. अब जिन्हें इन चीजों की जानकारी नहीं है वो बिना मतलब के कोई बयान दे तो उसपर प्रतिक्रिया देना जरूरी नहीं.'' उन्होंने कहा कि ''आपको पता होगा कि तेज प्रताप को चिकित्सा विज्ञान की कितनी जानकारी है. हालांकि वो पूर्व स्वास्थ्य मंत्री हैं तो उन्हें इतना तो समझ जरूर होना चाहिए कि जब वैज्ञानिकों ने किसी चीज को बनाया है तो उसपर राजनीतिक बयान हम ना दें. ऐसे समय में जब हम लोग कोरोना के संकट से जूझ रहे हैं, ऐसा बयान देना समाज के हित में नही हैं.''


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ''स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट पर है और जहां से भी कोई छोटी बड़ी जानकारी मिलती है तो हम वहां तुरंत पहुंचकर उसकी जांच करते हैं. जांच के बाद जो भी उन्हें स्वास्थ्य संबंधी सेवा देनी है दी जाती है. उसी का परिणाम है कि आज बिहार में 97.08% रिकवरी रेट है.''

अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack