Wednesday, 25 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

प्रो हिमाँशु राय, निदेशक, IIM इंदौर की प्रेरणा से बदल रहा कतौरा गाँव का परिदृश्य

अमिय पाण्डेय , Nov 17, 2020, 19:44 pm IST
Keywords: प्रो हिमाँशु राय   निदेशक   Directer IIM Indore   Himanshu Rai Directer   Himanshu   IIM इंदौर  
फ़ॉन्ट साइज :
प्रो हिमाँशु राय, निदेशक, IIM इंदौर की प्रेरणा से बदल रहा कतौरा गाँव का परिदृश्य
देश की एक बड़ी आबादी आज भी गांवों में निवास करती है। गांव धीरे धीरे बदहाल होते जा रहे हैं। गांवों के बदहाली का कारण है गांव के जागरूक और शिक्षित नौजवानों का शहरों की तरफ पलायन। लेकिन इसके साथ ही बहुत से ऐसे सफल लोग भी हैं जो गांवों के विकास के वापस गांवों की तरफ लौटें है। 

आज हम बात कर रहे हैं आईआईएम इंदौर के निदेशक प्रोफेसर हिमांशु राय का। प्रोफेसर हिमांशु राय का पैतृक गांव देवरिया जिले में गौरी बाजार विकास खण्ड का कतौरा है। उनके बचपन की यादें इस गांव से जुड़ी हैं। देश के सर्वोच्च मैनेजमेंट संस्थान आईआईएम इंदौर के निदेशक बनने पर प्रोफेसर हिमांशु राय ने अपने गांव को आदर्श गांव बनाने के लिए प्रयास शुरू किया। इसकी शुरुआत पिछले साल 6 सितंबर को एक कार्यक्रम में हुई। कार्यक्रम में देवरिया के जिलाधिकारी अमित किशोर मुख्य अतिथि थे।
 
गांव में कार्यक्रम के आयोजन से पूर्व स्थानीय समस्याओं और आवश्यकताओं का सर्वेक्षण किया गया। सर्वेक्षण के दौरान यह पाया गया कि गांव से पढ़ाई के लिए बच्चों को दूर तक पैदल जाना पड़ता है। इसके लिए कतौरा गांव से गौरी बाजार, गोरखपुर होते हुए सोनौली बार्डर तक बस का संचालन शुरू हुआ। गांव के रास्ते और सरकारी स्कूल संसाधनों के अभाव में बदहाल थे।
 
गांव के सरकारी स्कूल में बच्चों के लिए शौचालय तक उपलब्ध नहीं था। प्रोफेसर हिमांशु राय ने सरकारी स्कूल में शौचालय बनवाने और पुस्तकालय की नींव रखी। साथ ही साथ जिलाधिकारी महोदय से आग्रह किया कि स्कूल के चारदीवारी निर्माण में जिला प्रशासन सहयोग करें। आगे चलकर देवरिया जिला प्रशासन ने जिला अधिकारी अमित किशोर के मार्गदर्शन में आईआईएम इंदौर के साथ कतौरा गांव को आदर्श ग्राम बनाने के लिए एक समझौता किया। ग्रामीण स्वास्थ्य देखभाल के लिए गांव में मेडिकल कैंप लगाया गया। रोजगार सृजन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना एक जिला एक उत्पाद के साथ गांव को जोड़ा गया है। 
 
जिला प्रशासन के सहयोग से स्कूल की चारदीवारी और गांव में पंचायत भवन के चहारदीवारी निर्माण और परिसर के सुंदरीकरण का काम भी पूरा हो चुका है। गांव की जर्जर हो चुकी सड़कों के मरम्मत के लिए जिला पंचायत देवरिया ने मोबाइल टावर से लेकर माध्यमिक विद्यालय तक और प्रभूनाथ के घर से मदीना मियां के घर तक दो  सीसी रोड के निर्माण के लिए टेंडर जारी कर बजट स्वीकृत कर दिया है। आईआईएम इंदौर जिला प्रशासन देवरिया के साथ मिलकर गांव की मूलभूत समस्याओं शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार आदि पर कार्य कर रहा है। इस प्रकार कतौरा विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है।
 
“हम सभी के पास अपने गाँव से जुड़ी बचपन की ढेर सारी यादें होती हैं इसलिए अपने गाँव के विकास में योगदान दे कर संतुष्टि होती है। कतौरा को हम एक मॉडल गाँव के रूप में  विकसित करने का प्रयास करेंगे।” *प्रो० हिमाँशु राय*
अन्य गांव-गिरांव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack