Friday, 23 October 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चंदौली: पोषण माह का संकल्प, बरहनी परियोजना का कार्य बेहतर, गर्भवती व कुपोषित बच्चों तक पँहुचें आंगनबाड़ी कार्यकर्ता

चंदौली: पोषण माह का संकल्प, बरहनी परियोजना का कार्य बेहतर, गर्भवती व कुपोषित बच्चों तक पँहुचें आंगनबाड़ी कार्यकर्ता चंदौली: जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से कहा है कि सरकार द्वारा कुपोषण मुक्त प्रदेश बनाये जाने हेतु राष्ट्रीय पोषण माह चलाया जा रहा है जिसका लाभ समाज में गर्भवती व अतिकुपोषित (सैम) एवं कुपोषित बच्चों तक पहुंचाना है। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक गांव में गर्भवती एवं कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर उन्हे कुपोषण के बारे में  जानकारी दें और लाभ पहुंचाएं ताकि वह  कुपोषण मुक्त हो सकें। इसके साथ ही जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन व स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता की कमी को दूर किया जाए.

वहीं बरहनी ब्लॉक के बाल विकास परियोजना अधिकारी आरपी मौर्य व सुपरवाइज़र लगातार मॉनिटरिंग करते हुए गांवों का विजिट कर रहे है और सहजन,करी पत्ता, लौकी, गाजर, मूली, हरी साग सब्जी से कुपोषण से लड़ने का मूलमंत्र आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दे रहे है।वहीं सीडीपीओ बरहनी ने बताया कि हमारी परियोजना की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए हर गतिविधियों में रुचि रखने के साथ कुपोषण के खिलाफ इस महान पोषण माह के मुहिम में शामिल है जिसकी सराहना की जाती हैं।साथ ही उन्होंने बताया कि जियो मीट बेबीनार के माध्यम से लगातार आवश्यक दिशा निर्देश दिया जा रहा है जिससे आसानी से कार्य हो सके।

जिला कार्यक्रम अधिकारी नीलम मेहता ने बताया कि इस वर्ष प्रत्येक वर्ष से ज्यादा सतर्कता के साथ पोषण माह मनाया जा रहा है। उन्होने बताया कि कुपोषण को दूर करने के लिए जरूरी नहीं है कि कुपोषित बच्चों या गर्भवती को काजू, बादाम एवं अनार ही दिया जाये बल्कि घर के बगीचे मे आँगन मे सहजन, करी पत्ता, लौकी, गाजर, मूली, हरी साग सब्जी की उपज कर प्रयोग करें जिससे शरीर को लाभ मिलेगा।
नीलम मेहता ने बताया कि जनपद को कुपोषण मुक्त बनाना सभी का दायित्व है। इसका मुख्य बिन्दु खान-पान है, जब तक खानपान में बदलाव नहीं करेगें तब तक समस्याएं रहेगी। 

मुख्य सेविका सेक्टर बाल विकास परियोजना बरहनी सेक्टर कम्हरियाँ की रामदेई देवी ने बताया की उनके द्वारा प्रत्येक केंद्र पर जाकर कोरोना वायरस से बचाव के साथ साथ वजन व गर्भवती माताओ को विशेष देख्ररेख के बारे में बताया जा रहा है साथ ही कुपोषण मुक्त हो अपना जनपद इसपर भी कार्य किया जा रहा वही सभी गतिविधियों की फीडिंग भी की जा रही है.व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओ को विशेष रूप से वजन सैम मैम बच्चो की पहचान करना लाल पीला और पीला से हरा किस प्रकार से देखभाल करे की बच्चा जल्दी स्वस्थ्य हो इसके बारे में बताया जा रहा है 
 
उन्होने बताया कि भोजन बनाना भी एक कला है। इसमें महिलाओं की सहभागिता अति आवश्यक है घर के बगीचे से पौष्टिक सब्जी और विभिन्न प्रकार के व्यंजन बना सकती हैं। उन्होने बताया कि अभियान के तहत कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करते हुए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता जनसमुदाय में जानकारी दे रही हैं। जैसे बार-बार हाथ धोना, नियमित कपड़े की सफाई, बर्तनों को अच्छे से साफ करना, बाहर कहीं भी जाएं  तो शारीरिक दूरी पर विशेष ध्यान दें। मास्क लगाना कभी न भूलें।  
 
उपकेंद्र सिकन्दरपुर ब्लॉक चकिया की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता शशिबाला ने बताया कि केंद्र पर पोषण माह के तहत सामुदायिक सहयोग के साथ वृक्षारोपण किया गया साथ ही केंद्र पर 22 गर्भवती को मीठा दलिया, नमकीन दलिया, लड्डू प्रीमियम, हरी सब्जी साथ ही गिलोई भी दी गयी। केंद्र पर सात माह से तीन वर्ष तक के 36 बच्चों एवं तीन से छह वर्ष के 32 बच्चों को केंद्र पर मीठी व नमकीन दलिया एवं वीनिंग फूड के साथ ही फल वितरण किया किया गया।
अन्य गांव-गिरांव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack