Friday, 27 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

तो! आख़िरकार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर पत्र लिख ही डाले पूर्व विधायक मनोज कुमार सिंह डब्लू

तो! आख़िरकार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर पत्र लिख ही डाले पूर्व विधायक मनोज कुमार सिंह डब्लू
चंदौली: सैयदराजा के पूर्व विधायक मनोज कुमार सिंह डब्लू ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर विभिन्न मुद्दों पर पत्र लिखकर दिया है यह पत्र इस प्रकार हैं आप भी पढ़े पूर्व विधायक सैयदराजा सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज कुमार सिंह डब्लू में क्या मांग किया हैं पढ़े इस पत्र को
 
 
 
प्रतिष्ठा में,
मा0 राजनाथ सिंह जी,
केंद्रीय रक्षा मंत्री भारत सरकार, 
  नई दिल्ली। 
 
विषयः शहीद कुलदीप कुमार मौर्य के परिजनों को सम्मान व सहायता दिलाने के सम्बन्ध में। 
 
महोदय,
चंदौली की माटी में जन्म लेकर आपने राजनीति के शिखर पर अपने ओज व तेज से जो अंतर्राष्ट्रीय ख्याति अर्जित की है उससे आज पूरा चंदौली अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहा है। चाहे आपका उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्रित्व काल रहा है या फिर आपकी केंद्रीय गृह मंत्रालय का कामकाज को सभी ने आपकी कार्यकुशलता व नेतृत्व क्षमता को सराहा। आपने चंदौली के लोगों को जो मान-सम्मान दिया, वह अद्वितीय व अनमोल है। गत 08 सितंबर 2020, दिन- मंगलवार को जनपद के शहीदी धरती धानापुर में घटी घटना की ओर आपका ध्यान आकृष्ट कराना चाहता हूं। साथ ही आपसे यह आशा और पूरी उम्मीद है कि आप उक्त प्रकरण को संज्ञान में लेकर शहीदी धरती धानापुर क्षेत्र के पुराचेत दूबे (पुरवां) के शहीद कुलदीप कुमार मौर्य ( सुबेदार JC- 282522K, Unit- 278 FD REGT) के परिजनों कुछ मांगों को पूरा कर उन्हें उचित सम्मान व आर्थिक सहयोग दिलवाने में अपना योगदान देंगे। 
यह कि जम्मू के पूंछ के राजौरी सेक्टर में सूबेदार के पद पर तैनात धानापुर क्षेत्र के पुरचेता दूबे (पुरवां) निवासी कुलदीप कुमार मौर्य दिनांक 06 सिंतबर 2020 को निधन हो गया। इसके बाद शहीद के परिजनों को सेना के अफसरों द्वारा घटना की टेलिफोनिक जानकारी दी गयी।
 
यह कि 08 सितंबर 2020 की सुबह जब शहीद कुलदीप कुमार मौर्य का शव एंबुलेंस से धानापुर शहीद स्मारक पहुंचा। इसके बाद शहीद के परिजनों व स्थानीय ग्रामीणों ने सेना की इस कार्य प्रणाली पर आक्रोश व्यक्त किया। क्योंकि एंबुलेंस के साथ सेना का कोई भी वाहन नहीं भेजा गया था। मात्र दो सैनिक एंबुलेंस के साथ शव को परिजनों के सिपुर्द करने के लिए आए थे। 
 
1.शहीद के परिजनों की यह मांग है कि मृतक कुलदीप कुमार मौर्य को शहीद का दर्जा दिया जाय।
2.परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा के आधार पर सरकारी नौकरी मुहैया करायी जाए।
3.परिवार को हुई इस अपूरणीय क्षति की प्रतिपूर्ति हेतू उचित मुआवजा राशि मुहैया करायी जाय।
4.सैनिक कुलदीप कुमार मौर्य के पोस्टमार्टम रिपोर्ट से शहीद के परिजन असंतुष्ट है। उनकी इच्छानुसार शहीद के मौत के मामले की उच्च स्तर पर जांच करायी जाय।
5.शहीद का वाराणसी में सम्मान न होना और शव को सेना के वाहन की बजाय एंबुलेंस से भेजे जाने से शहीदी धरती धानापुर में सेना के इस कृत्य को लेकर लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। ऐसा क्यों और किसके आदेश पर हुआ। इसका आप अपने स्तर जांच कराकर दोषियों पर उचित कार्यवाही करवाने की कृपा करें।
 
 सादर!
मनोज कुमार सिंह 'डब्लू'
राष्ट्रीय सचिव- सपा । पूर्व विधायक- सैयदराजा, चन्दौली 
अन्य सेना लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack