Thursday, 26 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चंदौली पुलिस ने चोरी करने वाले शातिर गिरोह को हल्की मुठभेड़ के बाद दबोचा

चंदौली पुलिस ने चोरी करने वाले शातिर गिरोह को हल्की मुठभेड़ के बाद दबोचा
चंदौली: खबर यूपी के चंदौली से है जहां मुगलसराय कोतवाली पुलिस ने हल्की मुठभेड़ के बाद चोरी करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ करते हुये गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर उसके पास से चोरी के एक बाईक मोबाइल व लैपटॉप चार्जर हेडफोन व नगदी सहित एक कंट्री मेड पिस्टल बरामद किया है।दरअसल  मुगलसराय कोतवाली प्रभारी शिवानंद मिश्रा को मुखबिर के द्वारा सूचना मिली थी कि चोरी के बाइक से तीन युवक एक बाइक पर से पड़ाव की तरफ से मुगलसराय आ रहे हैं। 
 
पुलिस ने मुखबिर के द्वारा बताये गये  सूचना के आधार पर पड़ाव के समीप अपना जाल बिछा दी। कुछ समय के उपरांत एक बाइक से तीन युवक आते दिखाई पड़े जब पुलिस ने बाइक सवार युवकों को रुकने का इशारा किया तो युवकों वाहन की गति बढ़ा दी और पुलिस बल पर फायरिंग करने लगे पुलिस ने अपना बचाव करते हुए यूको का पीछा करना शुरू कर दिया और कुछ ही दूरी पर जाकर पकड़ कर कोतवाली ले आई। 
 
पूछताछ के दौरान युवकों ने अपना नाम व पता मनोज सोनकर पुत्र मुंडेलाल, चांद बाबू पुत्र मुन्ना व अमित पासवान पुत्र ईश्वर पासवान निवासी चौरहट पड़ाव बताते हुये बताया कि यह बाइक चंदासी गांव का निवासी अशोक चौहान ने दी है और वह लगभग बीस दिन पूर्व में चंदासी गांव के समीप से चोरी किया था लैपटॉप व मोबाइल अन्य सामानों के बारे में जब पूछताछ की गई तो युवकों ने बताया कि विगत लगभग 2 माह पूर्व में जलीलपुर में स्थित डॉटपुल के समीप एक दुकान के शटर का ताला तोड़कर चोरी किया था वही बरामद रुपयों के बारे में पूछताछ की गई तो बताया कि लगभग कुछ दिनों पूर्व में भोजपुर स्थित एक किराने  की दुकान का ताला चटका कर पच्चीस हजार रुपए नगदी पर हाथ साफ किये थे और वह रुपये हम आपस में तीनों बराबर के हिस्से लगाकर बाट लिये थे बाकी के रुपए खर्च हो गये। 
 
पुलिस ने युवकों के पास से चोरी के बाइक एक लैपटॉप एक मोबाइल ब्लूटूथ पांच पीस चार्जर व सात ईयर फोन बरामद किए हैं। फिर हाल पुलिस तीनों आरोपियों को पकड़कर भादवि के तहत मामला पंजीकृत कर अग्रिम कार्रवाई में जुट गई है।
अन्य राज्य पुलिस लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack