अमेरिका में अश्वेतों की अंधाधुंध हत्या और विद्रोह का एक नया अध्याय

अमेरिका में अश्वेतों की अंधाधुंध हत्या और विद्रोह का एक नया अध्याय
1968 में रेवरेंड मार्टिन लूथर किंग की हत्या के बाद अमेरिकी अंतरात्मा को झकझोर देने वाली भारी जन-आक्रोश अब 2020 के कोरोनावायरस संकट में अचंभित कर रहा है. आज इस भयानक स्वास्थ्य संकट के बीच, लॉकडाउन और सामाजिक दूरी को तत्काल आवश्यकता की अनदेखी करने वाले लाखों युवाओं ने एक निर्दोष अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड के खिलाफ पुलिस की बर्बरता का विरोध करने के लिए सड़कों पर उतर आए.
मिनियापोलिस के एक निहत्थे फ्लॉयड पर एक सशस्त्र पुलिस अधिकारी की गला दबाकर हत्या करने की छवि अब दुनिया भर में वायरल हो रही है. अमेरिका के इस अमानवीय दृश्य को देखकर दुनियाभर में लोग हैरान हैं. सैकड़ों टूटे हुए दिल अपने आंसुओं को पोंछ रहे हैं.

तारीख गवाह है, आज इस हिंसक खुराफात से लड़ने के लिए अमेरिका में हर एक जगह आवाम खिलाफत में उतर आया है – मिनियापोलिस से नजदीकी शहर शिकागो, वहां से हमारे न्यूयॉर्क, वाशिंगटन  डी .सी से होकर होकर पश्चिम की ओर लॉस एंजिल्स, सान फ्रानसिसको और  दक्षिणी ह्युस्टन, डालास हो करके छोटे-छोटे शहर शामिल हैं- जहां पुलिस ने अपनी बदसलुकी और हत्या की घटना से उपजे बवाल ने माहौल और अधिक खराब कर दिया है.
ऐसे शहरों में चार्ल्सटन, साउथ कैरोलिना शामिल है, जहां माइकल ब्राउन, एक युवा अश्वेत व्यक्ति को 2014 में पुलिस द्वारा अचंभित तरीके से गोली मार दी गई थी. न्यूयॉर्क में ब्रोंक्स है, जहां अफ्रीका में गिनी के एक युवक अमाडू डायलो को रात के अंधेरे में पुलिस ने बिना किसी स्पष्ट कारण के गोली मार दी थी. वहीं क्वींस, न्यूयॉर्क में शॉन बेल नामक एक युवा अश्वेत व्यक्ति को एक पुलिस सबमशीनगन से गोली मार दी गई थी, क्योंकि वह शादी से एक रात पहले बैचलर्स पार्टी के लिए जा रहा था. अकेले 2015 में, अमेरिकी पुलिस ने संयुक्त राज्य में बिना किसी परीक्षण या कारण 100 से अधिक निहत्थे लोगों को कुचलते हुए मार डाला था.
 
अमेरिका के श्वेत लोगों ने काले यानी नीग्रो और नेटिव जनसमुदाय के ऊपर चार सौ वर्षों तक बहुत उत्पीड़न किया है. वे दो सौ वर्षों तक गुलामी नामक अविश्वसनीय बर्बरता के शिकार रहे हैं.  फिर एक और सौ वर्षों के लिए वह तीव्र नस्लवाद, आर्थिक असमानता, गरीबी और मगरिबी उत्पीड़न का शिकार रहे हैं. उनके मानवाधिकारों को क्रूरता से वंचित किया गया है. साउथ इलिनोइस में खुद पांच वर्षों रहने के दौरान, पहली बार देखा कि कैसे गोरे और अश्वेतों के लिए बाथरूम, यहां तक कि पानी के नल भी अलग-अलग थे. मैं यह देख कर हैरान था.
मुझे याद है कि हमारे देश में उच्च जाति और निम्न जाति की भयावह विषमता है. जिसके खिलाफ हमारे देश के विचारक लंबे समय से सामाजिक और राजनीतिक आंदोलनों को आगे बढ़ा रहे हैं - भीमराव अंबेडकर, ज्योतिराव फुले, और हमारे बंगाल के स्वामी विवेकानंद, राममोहन राय, विद्यासागर, रवींद्रनाथ. भगवान श्री चैतन्य. आज हम हिंदू धर्म के कट्टरवाद को याद करते हैं, लेकिन हम जातिवाद और छुआछूत के खिलाफ महापुरुषों की शिक्षाओं को भूल गए हैं.
 
मैं गुरु्देव रवींद्रनाथ ठाकुर की अचूक बात को भूल गया - "जिसको भी अपने अधिकारों से वंचित किया, जिनको आपने सामने धकेल दिया, लेकिन इंसान होने का दर्जा नहीं दिया, प्यार से टूक भर बातें तक नहीं की/ जब मौत आयेगी तब आप और वो दोनों में कोई फर्क नहीं होगा, दो ही राख बन जाओगे.” 
दो मानवतावादी मिशनरी- भारत के स्वामी विवेकानंद और संयुक्त राज्य अमेरिका का रेवरेंड मार्टिन लूथर किंग- दोनों केवल सैंतालीस वर्ष का जीवन जीये.  उस अल्पायु में, दोनों ने हमारी चेतना को हमेशा के लिए बदल दिया. कम से कम, जो बदलने वाला था. वहाँ भारत में, और इस अमेरिका में.  या यूरोप में. भारतीय और बंगाली प्रवासियों की मजबूत काले लोगों को घृणा को देखकर, ऐसा लगता नहीं है.
 
हां, आज के अमेरिका में यहां और वहां सब कुछ हिंसा है।  हाँ।  इन्सान अपना सिर दर्द में कुट कुट कर रो रहे हैं।  दो महीनों में, संयुक्त राज्य अमेरिका में एक लाख से अधिक लोग कोरोनोवायरस से मर चुके हैं।  आज इस तथाकथित सपनों के देश में मौत  का जुलूस  चल रही है।  जगह की कमी के कारण सामूहिक कब्रें दी जा रही हैं।  प्रियजन मृत्यु के समय अंतिम बार नहीं मिल सकते हैं।  हजारों रेफ्रिजरेटर लाशों की कमी के कारण बड़े रेफ्रिजरेटर में छोड़ दिए गए हैं।  विशाल ट्रकों में, कभी-कभी अंतिम संस्कार के लिए हमारे ब्रुकलिन घर के सामने उन लोगों को सड़क पर ले जाया जाता है।  हम उसके मूक गवाह हैं।  लोग टूट रहे हैं।  लोग गुस्से में हैं।  इस एक लाख लोगों का एक बड़ा हिस्सा काला है।  अमेरिकी शासक वर्ग उनके बारे में सोचता है क्या  ?? जो लोग जीवन भर गरीबी, अशिक्षा और बीमार स्वास्थ्य के शिकार रहे हैं।  जिस क्षेत्र में वे रहते हैं वहां की परिवहन व्यवस्था हास्यास्पद है।  उनके क्षेत्रों में सरकारी अस्पतालों और चिकित्सा केंद्रों को एक के बाद एक बंद कर दिया गया है।  उनके इलाके के लोग ड्रग  का नशाखोरी में डूबते रहे हैं, और प्रशासन  इसमें   ।  जिसकी आवासीय परियोजना पर अमेरिका की भयावह सशस्त्र पुलिस बल द्वारा हमला किया जा सकता है और किसी भी क्षण किसी को भी मार सकता है - बिना जांच, बिना मुकदमे के।  अन्यथा, भाग्य की मदद से, वह अपने जीवन के बाकी हिस्सों के लिए अमेरिका में एक लाभ-लाभकारी निजी जेल में ले जाया जा सकता था।  वह निजी जेल अब हमारे मजा  लेता  हैं  देश में कई जगहों पर बनाई जा रही है।  ये समानताएँ मात्र संयोग नहीं हैं, इसमे  गहरी  साजिश  हैं ||
 
मैं हिंसा और लूटपाट का समर्थन नहीं करता।  लेकिन अमेरिका के हर कोने में, उपनगरों में, शहरों में, सड़कों पर, पार्कों में, बाजारों में, मेट्रोपलिस में, मैं एक सौ प्रतिशत तीव्र प्रतिरोध का समर्थन करता हूं और अन्याय के खिलाफ विरोध करता हूं।  मैं इस प्रतिबादी अमेरिका को जानता हूं।  मुझे इस  प्रतिरोध  का अमेरिका पर गर्व है।
 
मैं मेम्फिस में डॉः किंग की हत्या के समय इस देश में नहीं था।  जिन लोगों ने मुझे बताया था कि इस देश के कर्तव्यनिष्ठ लोगों ने किस गहन दुःख का अनुभव किया है।  एक शोक आंदोलन ने लोगों को सड़क पर ला दिया।  इसमें केवल अश्वेत ही नहीं थे।  गोरे भी थे।  जिस तरह हमने सभी जातियों और धर्मों के लोगों को पर्यावरण और जलवायु आंदोलन में शामिल होने के लिए देखा है, ठीक वैसे ही जैसे हमने 9/11 के आतंकवादी हमलों के बाद बिना किसी परीक्षण के गरीब निर्दोष प्रवासियों को घसीटने के अन्याय के खिलाफ लोगों को सड़कों पर उतरते देखा है।  मैंने इराक युद्ध को समाप्त करने के लिए माइनस दस डिग्री की अविश्वसनीय सर्दियों में लाखों अमेरिकियों को सड़कों पर मार्च करते देखा है।
 
मैं अमेरिका के कर्तव्यनिष्ठ लोगों के जुलूसों में भी शामिल रहा हूं।  मैं अभी भी यहाँ हूँ।  मैं तीव्रता से हूँ।  हमारे देश के लोग इस अमेरिका के बारे में नहीं जानते हैं।  पता करने की जरूरत  क्योंकि हम आज अपने देश की सभी घटनाओं का प्रतिबिंब देख सकते हैं।
 
अहिंसक जनता का यह अपना तैश में  आ जाती हैं  तो,  अपनी जड़ों से किसी भी दमनकारी, झूठ बोलने वाले, भ्रष्ट शासक वर्ग को उखाड़ के फेंक  देती  है।  यह इतिहास का सबक है।

# लेखक न्यूयॉर्क में एक मानवाधिकार कार्यकर्ता, लेखक और श्रम शिक्षक हैं. बंगला से अनुवाद - गौतम बासु.
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack