Thursday, 13 August 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

COVID-19: 11 अप्रैल को सभी CM से फिर चर्चा करेंगे पीएम मोदी

जनता जनार्दन संवाददाता , Apr 08, 2020, 18:40 pm IST
Keywords: CoronaVirus   PM Narendra Modi   कोरोना वायरस  
फ़ॉन्ट साइज :
COVID-19: 11 अप्रैल को सभी CM से फिर चर्चा करेंगे पीएम मोदी

दिल्ली: देश में जारी लॉकडाउन का आखिरी दिन 14 अप्रैल को है. यानी ये 15 अप्रैल को खत्म हो रहा है. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 अप्रैल को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेंगे. राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ये उनकी दूसरी बार बैठक होगी.


इससे पहले 2 अप्रैल को पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरीए राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी. कोरोना वायरस के लेकर देश में लगाए गए लॉकडाउन को लेकर इस बैठक को अहम माना जा रहा है.

बता दें कि आज पीएम मोदी ने विपक्षी दलों के साथ कोविड-19 पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की. सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में पीएम मोदी ने लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत दिए हैं. सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में विपक्षी दलों के कई नेताओं ने लॉकडाउन बढ़ाने का सुझाव दिया.


पिछली बैठक में क्या चर्चा हुई थी?


इससे पहले पीएम मोदी ने जब राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी तो उसमें सोशल डिस्टेंसिंग और क्वॉरन्टीन पर जोर देने के लिए कहा था. कोरोना संदिग्धों की ट्रैकिंग, निजामुद्दीन मरकज के संदिग्ध मामलों की पहचान और उनकी क्वॉरन्टीन करने का भी जिक्र किया गा था. इसके अलावा कन्युनिटी ट्रांसमिशन को रोकने, मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने और मेडिकल वर्कफोर्स को मजबूत पर भी चर्चा ही थी.


भारत में कोरोना वायरस की मौजूदा स्थिति

भारत में कोविड-19 के मामले बढ़कर पांच हजार के पार हो चुके हैं. अब तक देश में इसके 5194 केस सामने आ चुके हैं. वहीं 149 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके साथ ही इलाज के बाद 401 लोग रिकवर कर चुके हैं. देश में सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में हैं. यहां पॉजिटिव मामले की संख्या एक हजार को पार कर चुकी है. अब तक इस वायरस के 1018 पॉजिटिव केस सामने आए हैं. राज्य में 64 लोगों की मौत हो चुकी है. राजधानी दिल्ली में कोरोना के अब तक 576 और तमिलनाडु में 690 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं.

अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack