Wednesday, 03 June 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

दिल्ली-जम्मू तवी जंक्शन के बीच चलाई जाएगी पार्सल एक्सप्रेस ट्रेन ताकि ना हो सामग्रियों की कमी

जनता जनार्दन संवाददाता , Apr 08, 2020, 18:35 pm IST
Keywords: Parcel Express Train   Train   Railways   दिल्ली   जम्मू तवी जंक्शन   भारतीय रेलवे  
फ़ॉन्ट साइज :
दिल्ली-जम्मू तवी जंक्शन के बीच चलाई जाएगी पार्सल एक्सप्रेस ट्रेन ताकि ना हो सामग्रियों की कमी

जम्मू: कोरोना संक्रमण से देश को बचाने के लिए जारी लॉकडाउन के दौरान जम्मू कश्मीर में ज़रूरी सामग्रियों का अभाव न हो, इसके लिए भारतीय रेलवे ने अहम फैसला लिया है. जम्मू कश्मीर आवश्यक सामग्री पहुंचाने के लिए भारतीय रेलवे ने दिल्ली से जम्मू तवी के बीच विशेष मालगाड़ी चलने का फैसला किया है.


भारतीय रेलवे की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि ट्रेन संख्या 00403/00404 दिल्ली जंक्शन से जम्मू तवी जंक्शन तक पार्सल एक्सप्रेस ट्रेन को चलाया जायेगा. यह ट्रेन 9 अप्रैल से 15 अप्रैल तक दिल्ली से जम्मू तक चलेगी, जो दिल्ली से रात साढ़े दस बजे चल कर अगले दिन सुबह सवा आठ बजे जम्मू पहुंचेगी. वापसी में यह पार्सल एक्सप्रेस ट्रेन जम्मू से दिल्ली तक 10 से 16 अप्रैल तक चलेगी और शाम 6:10 बजे रवाना होकर अगले दिन तड़के करीब 4 बजे दिल्ली पहुंचेगी. यह ट्रेन पठानकोट, लुधियाना, अम्बाला और पानीपत रेलवे स्टेशनों पर रुकेगी.


वहीं, सरकार भी लॉकडाउन के दौरान जम्मू कश्मीर में ज़रुरत के किसी भी सामान की कमी नहीं होने दे रही है. जम्मू कश्मीर में आने से पहले जो ट्रक पंजाब और जम्मू कश्मीर के बॉर्डर सील हो जाने के कारण फंस जाते थे अब उन्हें इस बॉर्डर से निकासी में कुछ मिनट ही लग रहे हैं.दरअसल, जम्मू कश्मीर प्रशासन ने पड़ोसी राज्यों से ज़रूरी सामान लेकर आ रहे इन ट्रक्स की राज्य में बिना रुकावट कठुआ के लखनपुर से एंट्री के लिए एक समन्वय कमिटी बनाई है जिससे सामान से भरे इन ट्रक्स को जम्मू कश्मीर में आना बेहद आसान हो गया है.


पड़ोसी राज्यों से जम्मू कश्मीर में ज़रूरी सामान लेकर रोज़ाना ऐसे करीब 800 से अधिक ट्रक अब प्रदेश पहुंच रहे हैं.इन ट्रकों में फल, सब्ज़ियां, राशन, दूध, अंडे, दवा, एलपीजी और पेट्रोलियम उत्पाद शामिल हैं जो लखनपुर से जम्मू और फिर कश्मीर के लिए रवाना किये जा रहे हैं.

अन्य यात्रा & स्थान लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack