Sunday, 23 February 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चीन में कल 242 लोगों की मौत

जनता जनार्दन संवाददाता , Feb 13, 2020, 10:26 am IST
Keywords: Coronavirus   Health News   Prime Minister Narendra Modi   National Security   Advisor Ajit Doval   China   Dead 1300  
फ़ॉन्ट साइज :
चीन में कल 242 लोगों की मौत

बीजिंग: चीन के जानलेवा कोरोना वायरस से मारने वालों की संख्या 1300 के पार पहुंच गई है. चीन के अलग-अलग हिस्सों में कुल 1310 लोगों की मौत हो चुकी है. कल चीन के हुबेई प्रांत में एक दिन में 242 लोगों की मौत हो गई. कोरोना वायरस के अभी तक 48 हजार 206 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि हुबेई प्रांत में एक दिन में 242 लोगों की जान चली गई और हजरों नए मामलों की पुष्टि होने की खबरें हैं. वहीं जिनेवा में एक सम्मेलन के दौरान विश्व स्वास्थय संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस को आधिकारिक तौर पर ‘COVID-19’ नाम दिया है.


विश्व के लिए एक बड़ा खतरा है कोरोना वायरसWHO


यह वायरस पिछले साल हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान के उस बाजार से फैला था, जहां जंगली जानवर बेचे जाते हैं. डब्ल्यूएचओ के प्रमुख तेदरोस अदहानोम गेब्रेयसेस ने कहा था कि हालांकि इसके 99 प्रतिशत मामले चीन में है लेकिन यह पूरे विश्व के लिए एक बड़ा खतरा है. उन्होंने सभी देशों से इस संबंध में किए गए किसी भी शोध की जानकारी साझा करने की अपील भी की थी.

चीन में घर से काम करने को मजबूर करोड़ों लोग


चीन में फैले कोरोना वायरस ने करोड़ों लोगों को घरों से काम करने को मजबूर कर दिया है. स्कूलों, सरकारी विभागों, चिकित्सा सेवाओं और कारोबार से जुड़े लोग घर बैठकर काम कर रहे हैं. चीन में कोरोना वायरस फैलने के बाद देश के बड़े हिस्से में जनजीवन अस्त व्यस्त है, जिसके चलते लोग यह कदम उठा रहे हैं. वायरस से एक व्यक्ति से दूसरा व्यक्ति संक्रमित न हो, इसके लिये लोगों को एक जगह जमा नहीं होने की सलाह दी गई है.


चीन के सभी स्कूल मार्च तक बंद

पूरे देश में स्कूलों को मार्च तक के लिये बंद कर दिया गया है, जिसे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसके अलावा विभिन्न संग्रहालयों और सांस्कृतिक स्थलों को भी बंद किया जा चुका है. अस्पतालों का भी यही हाल है, जहां काम करने वाले लोग घरों से ही काम करने को मजबूर हैं.

अन्य अंतरराष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack