चंदौली: गरीब भिखारी को लात मारना पड़ा भारी, वीडियो वायरल ट्वीट के बाद निलंबित हुये बलुआ प्रभारी, एएसपी बनें जांच अधिकारी

चंदौली: गरीब भिखारी को लात मारना पड़ा भारी, वीडियो वायरल ट्वीट के बाद निलंबित हुये बलुआ प्रभारी, एएसपी बनें जांच अधिकारी चन्दौली: गरीब होना कोई अपराध नही, गरीबी में भीख मांगना भी कोई अपराध नहीं, लेकिन रौब के आगे गरीब को लात मारना तब अपराध बन जाता है जब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल वीडियो में लात मारते इंस्पेक्टर बलुआ दिखे! व पत्रकारो के ट्वीट के बाद हरकत में तेज तर्रार एसपी हेमन्त कुटियाल ने बलुआ इंस्पेक्टर को निलंबित किया व चंदौली पुलिस की छवि को बरकरार रखने में अहम भूमिका निभाई शायद उस भिख मांगने वाले गरीब को आज न्याय मिल गया होगा.ऐसे पुलिस कर्मियों के साथ ऐसा ही उच्चाधिकारियों द्वारा कार्यवाही होनी चाहिये जो शायद  एक गरीब से ऐसे पेश आते है जैसे वह कोई बड़ा क्राइम किया हो!.
अरे साहेब! अगर आप खबर को पढ़ेंगे तो महसूस होगी कि गलती उस बेचारे की क्या थी! उसकी सजा इतनी रही कि रोड किनारे बलुआ घाट रोड के समीप भीख मांग रहा था जिससे पेट भर सके.आपलोग ही गरीब रैन बसेरा बना, कम्यूनिटी पुलिसिंग के तहत आंख बनवाते, टॉर्च ट्रैक सूट बाँटते क्या दिखावा मात्र होता यह सब शायद! कहेंगे नही नही? ऐसा नही होता फिर यह तस्वीरें क्यों? फिर याद क्यों नही आपको लात मारते वक़्त! और तब याद आती है एक ऐसे पुलिस कर्मी की जो मिसाल किये हुये थे नाम था त्रिपुरारी पाण्डेय वे न सिर्फ गरीबो के मसीहा थे बल्कि राह चलते गरीबों के चेहरे पर मुस्कान लाने वाले एक कुशल पुलिस अधिकारी,जिनकी हमेशा से रही है मानवता की जिगरी यारी! कम से कम आपके जिले में थे सिख लेनी चाहिये उनसे! 

बरहाल काबिले तारीफ चंदौली एसपी का जिन्होंने निलंबित कर यह बतला दिया कि वे बदनाम नही होने देंगे चंदौली पुलिस को और अब लोग उम्मीद करेंगे कि ऐसा अमानवीय चेहरा देखने को न मिले.
अन्य राज्य पुलिस लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack