Wednesday, 01 April 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

6 राज्यों की पुलिस भड़काऊ भाषण के आरोपी शरजील को ढूंढने में नाकाम

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 28, 2020, 10:03 am IST
Keywords: SERJIL   SARJIL   FIR   CAA   नागरिकता संशोधन कानून   सीएए   बिहार की राजधानी पटना  
फ़ॉन्ट साइज :
6 राज्यों की पुलिस भड़काऊ भाषण के आरोपी शरजील को ढूंढने में नाकाम

दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सटी (जेएनयू) के छात्र शरजील इमाम के खिलाफ कई राज्यों में देशद्रोह का केस दर्ज है. शरजील इमाम अपने भाषण के बाद से फरार है. शरजील की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार अलग-अलग राज्यों में छापेमारी अभियान चला रही है, लेकिन अबतक शरजील का कुछ पता नहीं चल पाया है.

पुलिस ने शरजील के भाई को हिरासत में लिया


पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई, बिहार की राजधानी पटना और दिल्ली में छापेमारी कर रही है. शरजील इमाम की तलाश में पुलिस की अपराध शाखा की पांच टीमे लगाई गई हैं. दिल्ली के शाहिन बाग आंदोलन के सूत्रधार शरजील इमाम के पैतृक आवास पर पुलिस ने एक बार फिर देर रात छापेमारी की. इस कार्रवाई में पुलिस ने शरजील के भाई मुजम्मिल इमाम को हिरासत में लिया है.


यूपी पुलिस को भी शरजील की तलाश


शरजील इमाम की यूपी पुलिस को भी तलाश है. यूपी के आईजी लॉ एंड ऑर्डर विजय भूषण ने कहा है कि यूपी पुलिस सरगर्मी से शरजील इमाम के सभी संभावित ठिकानों की तलाश कर रही है. यूपी पुलिस के पास अहम जानकारी है और जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

शरजील पर दर्ज हैं कई केस


बता दें कि एक तरफ पुलिस शरजीम इमाम को ढूंढ रही हैं, वहीं दूसरी ओर दिल्ली में शरजील के समर्थन में जामिया के छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं. इमाम के खिलाफ दिल्ली पुलिस द्वारा रविवार को भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए, 153 ए और 505 के तहत मामला दर्ज किया गया था. इसके अलावा उसके खिलाफ 16 जनवरी को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में दिए गए एक भाषण को लेकर शनिवार को देशद्रोह का मामला दर्ज किया. असम पुलिस ने भी शरजील के भाषणों को लेकर उसके खिलाफ आतंकवाद रोधी कानून यूएपीए के तहत एक मामला दर्ज किया है.


जेएनयू के चीफ प्रॉक्टर ने शरजील को किया तलब


जेएनयू इतिहास अध्ययन केंद्र के पीएचडी छात्र इमाम को जेएनयू के चीफ प्रॉक्टर ने भी तलब किया है. उन्होंने इमाम से तीन फरवरी तक प्रॉक्टोरियल समिति के समक्ष पेश होकर कथित भड़काऊ भाषण पर अपनी स्थिति स्पष्ट करने को कहा है.

अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack