Sunday, 20 September 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

गिरफ्तार डीएसपी और आतंकियों को पूछताछ के लिए दिल्ली लाएगी एनआईए

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 18, 2020, 12:28 pm IST
Keywords: Jammu Kahmir   Jammu   India   DSP Jammu   श्रीनगर   जम्मू-कश्मीर   
फ़ॉन्ट साइज :
गिरफ्तार डीएसपी और आतंकियों को पूछताछ के लिए दिल्ली लाएगी एनआईए

दिल्ली: जम्मू-कश्मीर पुलिस के गिरफ्तार डीएसपी देवेंद्र सिंह और उसके साथ पकड़े गए आतंकियों को पूछताछ के लिए दिल्ली लाया जाएगा. इस मामले की जांच एनआईए कर रही है. खुफिया सूत्रों के अनुसार देवेंद्र सिंह का कनेक्शन आतंकी संगठन हिजबुल के मुखिया सैयद सलाउद्दीन से बताया जा रहा है.

सूत्रों के अनुसार खबर है कि निलंबित डीएसपी देवेंद्र सिंह हिजबुल के आतंकी इरफान के संपर्क में था. इरफान के जरिए ही वो शोपियां में हिजबुल के टॉप कमांडर नवीद बाबू तक पहुंचा था, जिसके बाद उसे शनिवार को गिरफ्तार किया गया था.

शुरुआती जांच में देवेंद्र के घर से दो पिस्तौल और एक एके-47 राइफल भी जब्त की गई थी. गृह मंत्रालय ने मामले की जांच एनआईए को सौंप दी है. जांच एजेंसियां हवाला ट्रांजेक्शन के एंगल को लेकर भी डीएसपी से पूछताछ कर रहीं हैं. जांच एजेंसिया दविंदर सिंह का पिछले 10 सालों का इनकम टैक्स रिटर्न रिकॉर्ड खंगाल रही हैं.

हिजबुल आतंकियों को चंडीगढ़ ले जा रहा था दविंदर सिंह
जांच एजेंसियों के मुताबिक, दविंदर सिंह ने पूछताछ में कबूला है कि वह दोनों हिजबुल आतंकियों को चंडीगढ़ ले जा रहा था. ऐसे में इस बात की संभावना काफी ज्यादा हो सकती है कि दविंदर सिंह पंजाब में खालिस्तानी आतंकियों और उनके समर्थकों से मिल रहा हो.

पुलवामा शोपियां के आतंकी पिछले दो सालों में पंजाब में कई आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे चुके हैं, और इस दौरान बीएसपी दविंदर सिंह सिंह पुलवामा और सोफिया में ही तैनात रहे.

सूत्रों ने यह भी बताया है कि बीते कुछ समय से पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर और पंजाब में अपनी आतंक के नेटवर्क को फैलाने में लगा है. आतंकी संगठन खासतौर पर हिज्बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद खालिस्तानी और कश्मीरी आतंकियों के बीच समन्वय बिठाने की कोशिशें कर रहा है, ताकि कश्मीर के आतंकियों को मदद पंजाब से पहुंचाई जा सके. ऐसे में दविंदर सिंह की भूमिका और ज्यादा अहम हो जाती है.

अन्य आतंकवाद लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack