ट्रंप की दूसरी चेतावनी, हमले की हिमाकत मत करना

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 05, 2020, 13:29 pm IST
Keywords: Donald Trump   Trump Americas   Trump And Putin   G20 Summit   Washington   Jared Kushner   ईरान और अमेरिका   
फ़ॉन्ट साइज :
ट्रंप की दूसरी चेतावनी, हमले की हिमाकत मत करना वॉशिंगटन: ईरान और अमेरिका के बीच चल रही तनातनी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप का नया ट्वीट. ट्वीट में ट्रंप ने ईरान को चेतावनी देते हुए कहा है कि ईरान को हम सलाह देते हैं ऐसा ना करें. क्योंकि अगर वो ऐसा करते हैं तो फिर अमेरिका ऐसा हमला करेगा जैसा अब तक नहीं हुआ है. ट्र्ंप ने ट्वीट में लिखा, "उन्होंने हमला किया और हमने उसका जवाब दिया. अगर वो फिर से हमला करेंगे, जो कि मैं उन्हें सलाह देता हूं कि वो ना करें तो हम उन पर और जोरदार हमला करेंगे जैसा अब तक कभी नहीं हुआ.''

ट्रंप के इस ट्वीट के बाद दोनों देशों के बीच का तनाव बढ़ना और तय है. एक तरफ जहां अमेरिकी राष्ट्रपति हमले की चेतावनी दे रहे हैं वहीं दूसरी ओर ईरान ने मस्जिद पर लाल झंडा फहराकर युद्ध और बदले का एलान कर दिया है. शिया परंपरा के मुताबिक मस्जिद पर लाल झंडा युद्ध का प्रतीक और बदला लेने का प्रतीक होता है.

दरअसल कई दशकों से एक दूसरे के दुश्मन अमेरिका और ईरान की दुश्मनी नए दशक की शुरूआत में और ज्यादा बढ़ गई है. परसों अमेरिका ने ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी को बगदाद में एयर स्ट्राइक में मौत के घाट उतार दिया था. वहीं ईरान समर्थित संगठन हशद अल शाबी को भी अमेरिका ने कल इराक में निशाना बनाया. जिसके बाद बीती रात अमेरिका के दो ठिकानों पर रॉकेट से हमला किया गया. पहला हमला अमेरिकी दूतावास पर हुआ जबकि दूसरा हमला एयरफोर्स बेस पर किया गया।

हमला अमेरिका से बदला कैसे?
ये हमला ईरान का अमेरिका से बदला कैसे हो सकता है. इसके समझने के लिए आपको कासिम सुलेमानी की बेटी जेनाब सुलेमानी और ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी की बातचीत जाननी चाहिए. कासिम सुलेमानी की बेटी जेनाब सुलेमानी ने राष्ट्रपति हसन रोहानी से कहा, ''मिस्टर रोहानी जब मेरे पिता के दोस्तों को खून बहता था तो वो बदला लेते थे. अब मेरे पिता के खून बहने का बदला कौन लेगा?'' इसके जवाब में राष्ट्रपति रोहानी ने कहा, '' बिल्कुल मिलेगा. शहीद के खून का बदला लिया जाएगा, चिंता मत करो.''

ट्रंप ने सुलेमानी की मौत को सही ठहराया
इराक में अमेरिका के ठिकानों पर हुआ हमला बगदाद में अमेरिका के एयर स्ट्राइक के बाद से हुआ है. इस हमले में ईरान का टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी मारा गया था. अमेरिका के राष्ट्रपति ने इस हमले के बाद साफ साफ कहा था कि अमेरिका को नुकासान पहुंचाने वालों को ढूंढकर मारेंगे. अमेरिका राष्ट्रपति ने कासिम सुलेमानी की मौत को सही ठहराया.

ट्रंप की चेतावनी, कहा- अमेरिका धमकी बर्दाश्त नहीं करेगा
इराक में अमेरिका के ठिकानों पर हुए हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने ईरान को कड़े शब्दों में चेताया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''अमेरिकी ठिकानों को निशाना बनाए जाने को लेकर ईरान तेवर के साथ कह रहा है कि उसने बदला लिया. जबकि अपने आतंकी नेता के बारे में नहीं बता रहा है कई अमेरिकियों को और कई लोगों की हत्या की.''

 

उन्होंने आगे लिखा, ''सैकड़ों ईरानी प्रदर्शनकारी हमारे दूतावास पर हमला कर रहे हैं. कई जगहों पर हमले की तैयारी कर रहे हैं. ये ईरान की पुरानी समस्या है. मैं चेतावनी देता हूं अगर किसी भी अमेरिकन या उसके ठिकानों को निशाना बनाया. हमने इरान के 52 ठिकानों को टारगेट किया है. कुछ ठिकाने ईरान के लिए बेहद खास हैं. हम इनपर बहुत तेज और जोरदार हमला करेंगे. अमेरिका अब कोई धमकी बर्दाश्त नहीं करेगा.''

 

दोनों देशों के बीच तनाव बना दुनिया की टेंशन
कासिम सुलेमानी की मौत के बाद अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध का संकट गहरा होता जा रहा है. दोनों देश युद्ध के रास्ते पर बढ़ते हुए दिखाई दे रहे हैं. हालांकि दोनों देश एक दूसरे पर सीधे हमला नहीं कर रहे हैं. एक दूसरे पर हमले के दोनों देशों ने इराक को चुना है.

 

इराक में अमेरिकी ठिकानों पर हुए हमले के बाद अमेरिका इराक में लगातार अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है. शनिवार को अमेरिका के 650 सैनिक बगदाद पहुंचे. माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में अमेरिका तीन से साढ़े तीन हजार सैनिक और इराक भेजेगा.

अन्य अंतरराष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack