Sunday, 15 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

विकास दर गिरने पर कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला

विकास दर गिरने पर कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला

दिल्ली: देश की जीडीपी में गिरावट दर्ज की गई है और जुलाई से सितंबर महीने की तिमाही में यह गिरकर 4.5 फीसदी हो गई है. अर्थव्यवस्था में विकास की रफ्तार सुस्त होने पर कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार पर करारा हमला बोला है. कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी सरकार ने अर्थव्यवस्था का बंटाधार कर दिया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार के आर्थिक सोच के दिवालियेपन का नतीजा है कि GDP की दूसरे तिमाही की ग्रोथ पिछले 6 साल में सबसे कम हो गई है.

उन्होंने कहा कि बीजेपी के लिए जीडीपी का मतलब गोडसे डिवासिव पॉलिटिक्स है जिसकी ग्रोथ लगातार बढ़ रही है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि गिरती अर्थव्यवस्था की वजह से देश अब बर्बादी की कगार पर खड़ा हो चुका है जिसकी जिम्मेदार मोदी सरकार है और अब मोदी जी को सामने आकर फेल्ड मोदीनॉमिक्स और पकौड़ानॉमिक्स जो वो देश को पिछले 6 साल से बेचते आए हैं, उसपर स्पष्टीकरण देना चाहिए.

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि क्या आज भी पीएम मोदी कहेंगे 'सब चंगा सी' ...सच बात ये है कि 'सब मंदा सी'. उन्होंने कहा कि जब तक ये सरकार अपनी विभाजनकारी नीतियों को छोड़कर देश की अर्थव्यवस्था पर सार्थक ध्यान नहीं देगी, तबतक सुधार नहीं होगा. बड़ी-बड़ी कंपनियों को टैक्स छूट देकर अर्थव्यस्था नहीं सुधारी जा सकती, ये सरकार उद्योगपतियों के लिए काम करती है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि तालाबंदी मोदी सरकार की पहचान बन गए हैं और उसका उपाय ढूंढने की बजाय मोदी सरकार के मंत्री देश के लोगों का मजाक उड़ा रहे हैं. रविशंकर प्रसाद कहते हैं कि सलमान खान की फिल्में चल रही हैं इसलिए अर्थव्यवस्था सही है, पीयूष गोयल आइंस्टाइन की थ्योरी का हवाला देकर कहते हैं कि आप अखबार मत पढ़िए क्योंकि ये आंकड़े गलत हैं. वित्त मंत्री कहती हैं कि भयंकर मंदी है लेकिन इकोनॉमिक रिसेशन नहीं है. अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों पर टालने से काम नहीं होगा.

आए दिन महात्मा गांधी के बारे में अपशब्द कहना और बाद में माफी मांग लेना बीजेपी का चाल-चेहरा और चरित्र है. प्रज्ञा ठाकुर ने पहले भी हेमंत करकरे और महात्मा गांधी के लिए अपशब्द कहे थे, लेकिन मोदी जी ने माफी मंगवाकर टिकट दे दिया और रक्षा संसदीय समिति का सदस्य बना दिया. आज फिर से माफी मांगने का स्वांग रचा जा रहा है.

 
 

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack