Sunday, 15 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी के विधायकों ने ली कसम

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 25, 2019, 22:15 pm IST
Keywords: Congress Maharastra Ncp Maharastra Shiv Sena Maharastra   शिवसेना   कांग्रेस   एनसीपी  
फ़ॉन्ट साइज :
शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी के विधायकों ने ली कसम

मुंबई: आज मुंबई के ग्रैंड हयात होटल में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के विधायकों ने शक्ति प्रदर्शन किया. दावा किया गया कि इस दौरान तीनों पार्टियों और सहयोगी दलों के कुल 162 विधायक मौजूद थे. इस दौरान होटल के भीतर ‘We Are 162’ यानी ‘हम 162 हैं’ लिखा पोस्टर देखने को मिले. इस पोस्टर के जरिए तीनों पार्टियों ने एकजुटता का संदेश दिया गया. खास बात ये रही कि इस मीटिंग में सभी विधायकों को एकजुट रहने की कसम दिलाई गई. सभी विधायकों ने अपने हाथ आगे कर ये कसम खाई.

विधायकों को कसम दिलाई गई, ‘’मैं कसम लेता/लेती हूं कि शरद पवार, उद्धव ठाकरे और सोनिया गांधी के नेतृत्व में अपनी पार्टी के प्रति ईमानदार रहूंगा/रहूंगी. मैं किसी भी चीज़ का लालच नहीं करूंगा/करूंगी. मैं ऐसा कुछ नहीं करूंगा/करूंगी जिससे बीजेपी को फायदा हो. ”

 
शरद पवार बोले- बहुमत साबित करने में दिक्कत नहीं होगी

शरद पवार ने विधायकों को संबोधित करते हुए कहा कि बहुमत साबित करने में हमें कोई दिक्कत नहीं होगी. अजित पवार की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि जिसे पार्टी से निलंबित कर दिया गया है वो आदेश नहीं दे सकता. उन्होंने कहा, ''फ्लोर टेस्ट के दिन मैं 162 से ज्यादा विधायकों को लाऊंगा. ये गोवा नहीं, ये महाराष्ट्र है.'' उन्होंने आगे कहा, ''हम यहां महाराष्ट्र के लोगों के लिए एकजुट हैं. राज्य में बिना बहुमत के एक सरकार बनाई गई है. कर्नाटक, गोवा और मणिपुर में बीजेपी के पास कहीं भी बहुमत नहीं था लेकिन सरकार बना ली.'' इसके साथ ही अजित पवार का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि उसके पास फैसले लेने का अधिकार नहीं था और उसने ये निर्णय खुद लिया.


उद्धव ठाकरे बोले- जितना रोकेगे, उतना मजबूत होंगे

वहीं विधायकों को संबोधित करते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, ''हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं है. हमारी लड़ाई सत्यमेव जयते के लिए है. जितना हमें रोकने की कोशिश करोगे, हम उतने ही मजूबत होंगे.'' उन्होंने आगे कहा, ''अब तो दोस्त बढ़ गए हैं. हमारा गठबंधन बहुत लंबे समय के लिए है. बीजेपी 25 साल में भी शिवसेना को नहीं समझ पाई. हम आएं हैं, हमारा रास्ता साफ करो.''

अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack