जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी फीस बढ़ोतरी के विरोध में संसद जा रहे छात्रों पर लाठीचार्ज

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 18, 2019, 17:11 pm IST
Keywords: JNU Protest   Jawaharlal Neharu Protest   JNU India   जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी  
फ़ॉन्ट साइज :
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी फीस बढ़ोतरी के विरोध में संसद जा रहे छात्रों पर लाठीचार्ज

दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हॉस्टल फीस बढ़ोतरी के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन जारी है. आज सैकड़ों छात्रों ने अपने हाथों में तख्तियां लेकर संसद भवन की तरफ मार्च करने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें बीच में रोक दिया. छात्रों को फिलहाल सफदरजंग मकबरा के पास रोका गया है. छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने लाठीचार्ज किया है. इस बीच संसद के पास के चार मेट्रो स्टेशन पर सेवा रोक दी गई है. वहीं रिंग रोड पर भारी जाम लगा है.

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के मुताबिक, ''दिल्ली पुलिस की सलाह के अनुसार, उद्योग भवन, लोक कल्याण मार्ग और पटेल चौक पर ट्रेनें नहीं रुक रही हैं. उद्योग भवन, पटेल चौक और केंद्रीय सचिवालय के लिए एंट्री और एग्जिट अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है.''

दिल्ली पुलिस के पीआरओ मनदीप एस रंधावा ने कहा कि हम छात्रों से उनकी मांगों के बारे में बात करने की कोशिश कर रहे हैं और उन्हें मना कर रहे हैं कि वे कानून अपने हाथ में न लें. लाठीचार्ज के आरोपों की हम जांच करेंगे.''

JNU के छात्र, हॉस्टल फीस में बढ़ोतरी के खिलाफ पिछले तीन सप्ताह से प्रदर्शन कर रहे हैं. वे अपनी मांगों की तरफ संसद का ध्यान आकृष्ट करने के लिए सड़क पर उतरे हैं. उनका कहना है कि जब तक सरकार शुल्क वृद्धि वापस नहीं ले लेती है तब तक वे प्रदर्शन करते रहेंगे.

यूनिवर्सिटी के छात्र छात्रावास नियमावली के खिलाफ पिछले तीन सप्ताह से प्रदर्शन कर रहे हैं. इस नियमावली में छात्रावास के शुल्क में वृद्धि, ड्रेस कोड और आने-जाने का समय तय करने के नियम वाले प्रावधान हैं.

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा, ‘‘ दिल्ली पुलिस ने संसद भवन की तरफ जा रहे शांतिपूर्ण मार्च को रोक दिया. मानव संसाधन विकास मंत्रालय, समिति गठित कर छात्रों को मूर्ख बना रहा है. जब तक बातचीत हो रही है तब तक के लिए समिति शुल्क वृद्धि को खत्म क्यों नही कर देती है? हम लोग शुल्क वृद्धि को वापस लेने की मांग कर रहे हैं.’’

अन्य शिक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack