Friday, 18 September 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

राकेश रौशन इंडियन रियल हीरोज अवार्ड से हुए सम्मानित

राकेश रौशन इंडियन रियल हीरोज अवार्ड से हुए सम्मानित
चन्दौली: जिले के मतदाता जागरूकता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर और सामाजिक संस्था रौशन फाउंडेशन के संस्थापक राकेश यादव रौशन को इंडियन रीयल हीरोज अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें नई दिल्ली की संस्था एआर फाउंडेशन और वाराणसी की संस्था अनमोल सेवा समिति द्वारा बीएचयू के समता भवन में आयोजित एक  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि आकाशवाणी वाराणसी के निदेशक डॉ. राजेश कुमार गौतम ने सम्मान स्वरूप प्रमाण पत्र, स्मृति चिन्ह और अंगवस्त्र प्रदान किया।
      
मालूम हो कि चहनियां ब्लॉक के मारूफपुर गांव निवासी और बीएचयू से पत्रकारिता एवं जनसंचार में परास्नातक राकेश रौशन ने जमीनी स्तर पर जनपद के मतदान प्रतिशत को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। जिले के ब्रांड अम्बेसडर के रूप में विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2017 और लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 में मतदाताओं को मतदान करने के लिए प्रेरित करने में इनका अतुलनीय योगदान रहा, जिसके परिणाम स्वरूप चन्दौली जनपद दोनों ही निर्वाचनों में पूरे मंडल में प्रथम रहा। इसके अलावा रौशन फाउंडेशन के द्वारा समाज के दिव्यांगजनों के लिए भी ये हमेशा काम करते आ रहे हैं। इस सम्मान के पूर्व राकेश रौशन को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा रोल मॉडल अवार्ड और बेस्ट इलेक्टोरल प्रेक्टिस अवार्ड सहित दर्जनों अन्य सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है।
 
मुख्य अतिथि राजेश गौतम ने कहा कि जमीन से जुड़कर वास्तविक रूप में काम कर लोगों का भला करने वालों को सम्मानित करने से उन्हें एक नई ऊर्जा मिलेगी। विशिष्ट अतिथि डॉ. अमित यादव ने कहा कि दिव्यांगजनों को समर्पित इस कार्यक्रम से दिव्यांगों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला। कार्यक्रम में देश भर के लगभग 60 विशिष्ट लोगों को इंडियन रियल हीरोज अवार्ड से सम्मानित किया गया।
    
कार्यक्रम में डीन प्रोफेसर आरपी पाठक, प्रो. गंगाधरन, प्रोफेसर योगेंद्र पांडेय, छात्र सलाहकार बीएचयू प्रोफेसर अभिनव शर्मा, डॉ. अरविंद पांडेय, एआर फाउंडेशन की अध्यक्ष नीलिमा ठाकुर, अनमोल सेवा समिति के अध्यक्ष अरविंद चक्रवाल, विकास, हनी, अन्नू आदि लोग मुख्य रूप से उपस्थित थे।
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack