Wednesday, 13 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

ले रहे हैं बाइक इंश्योरेंस तो इंश्योरेंस रिन्यूवल सहित इन बातों का रखें खास ख्याल

जनता जनार्दन संवाददाता , Oct 20, 2019, 18:44 pm IST
Keywords: Insurance   Bike Insurace   बाइक इंश्योरेंस   इंश्योरेंस पॉलिसी  
फ़ॉन्ट साइज :
ले रहे हैं बाइक इंश्योरेंस तो इंश्योरेंस रिन्यूवल सहित इन बातों का रखें खास ख्याल

दिल्लीः अगर पास भी व्हीकल है तो आपको उसका इंश्योरेंस कराना जरूरी है. चाहे वह 2 व्हीलर हो या 4 व्हीलर आपको गाड़ी का इंश्योरेंस कराना बेहद अहम है. यहां हम बताएंगे कि आप कैसे अपनी गाड़ी को इंश्योर कराएं कि कम से कम खर्च में आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिल पाएगा.

इंश्योरेंस पॉलिसी में अतिरिक्त कवरेज को लें
जी डेप्रिसिएशन कवर जैसी सुविधाएं आप अपने बाइक इंश्योरेंस को लेते समय जरूर लें. इससे अगर कुछ सालों बाद भी आपकी बाइक में क्लेम करने की जरूरत पड़ती है तो दिक्कत नहीं आती है. इंश्योरेंस पॉलिसी में थोड़ा ही एक्सट्रा खर्च करने के बाद आप अतिरिक्त कवरेज को ले सकते हैं.

समय पर इंश्योरेंस को कराएं रिन्यू/डिस्काउंट ऑफर्स का भी रखें ध्यान
सही समय पर बाइक का इंश्योरेंस रिन्यू कराना बेहद जरूरी होता है क्योंकि अगर आप इसमें चूक गए तो आपको पेनल्टी देनी पड़ सकती है. वहीं सही समय पर रिन्यू कराने पर कई बार इंश्योरेंस कंपनियां आपको कुछ डिस्काउंट भी दे सकती हैं.

बीमा कंपनी के क्लेम सेटलमेंट रेश्यो को भी जानें
हमेशा उसी कंपनी से बीमा कराएं जिसका क्लेम सेटलमेंट रेश्यो अच्छा हो. ये इस बात का इंडीकेटर है कि कंपनी ने लोगों के क्लेम को सही समय पर और सही तरीके से सेटल किया है या नहीं. ऐसा न हो कि आप सस्ते इंश्योरेंस के चक्कर में पड़कर ऐसा कंपनी से बाइक इंश्योरेंस करा लें जो छोटी-छोटी बातों पर आपका क्लेम रिजेक्ट कर दे.


इंश्योरेंस लैप्स होने पर क्या करें
इंश्योरेंस लैप्स हो गया है तो ऑनलाइन पॉलिसी ली जा सकती है, इसके तहत ऑनलाइन मोड से पेमेंट करें और तुंरत पॉलिसी आपको मिल सकती है.


एक्सीडेंट में बाइक डैमेज होने पर क्या करें
अगर एक्सीडेंट में आपकी बाइक डैमेज हुई है तो इसके तुरंत बाद इंश्योरेंस कंपनी को इसकी जानकारी दें. जरूरत पड़ने पर बीमा कंपनी अपने निरीक्षक को एक्सीडेंट वाली जगह भेज सकती है जो कि इस बात का आकलन करेगी कि कितना नुकसान हुआ है. लिहाजा ऐसी स्थिति में पहले ही इंश्योरेंस कंपनी से बात कर लें और जरूरत के लिए अपने व्हीकल को एक्सीडेंट की जगह से न हटाएं.

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack