Sunday, 08 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चंदौली: एआरटीओ दफ्तर पर कब्जा किये दलालो के खिलाफ पुलिस का एक्शन, सात को गिरफ्तार कर भेजा जेल

जनता जनार्दन संवाददाता , Sep 25, 2019, 17:09 pm IST
Keywords: Chandauli   Arto Office Chandauli   UttarPradesh Chandauli   चन्दौली   आरटीओ आफिस चन्दौली   7 अभियुक्त गिरफ्तार   उत्तरप्रदेश चन्दौली  
फ़ॉन्ट साइज :
चंदौली: एआरटीओ दफ्तर पर कब्जा किये दलालो के खिलाफ पुलिस का एक्शन, सात को गिरफ्तार कर भेजा जेल
चन्दौली: खबर यूपी के चन्दौली से है यहां क्राइम ब्रांच व चन्दौली पुलिस द्वारा संयुक्त रूप से आरटीओ दफ्तर पर छापेमारी के बाद हड़कम्प मचा हुआ है दलालों की कैद से आरटीओ कार्यालय को मुक्‍त कराने का बुधवार को पुलिस ने अभियान क्या छेड़ा सात आरोपी पुलिस के चंगुल में फंस गए। सीओ सदर त्रिपुरारी पांडेय व क्राइम ब्रांच टीम की ओर से मंगलवार को एआरटीओ कार्यालय के समीप दुकानों में की गई छापेमारी के दौरान सात दलाल आखिरकार पकड़े गए। उनके पास से कंप्यूटर, लैपटॉप, मुहर और वाहनों के फर्जी कागजात भी बरामद किए गए। एएसपी प्रेमचंद और सीओ ने बुधवार को पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता कर गिरफ्तारी और बरामदगी के बाबत जानकारी दी।
 
चन्दौली पुलिस की माने तो पिछले काफी दिनों से एआरटीओ कार्यालय के समीप दलालों के सक्रिय रहने की गोपनीय शिकायतें मिल रही थीं। इस पर सीओ के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित कर छापेमारी की गयी। जैसे ही पुलिस ने आरटीओ दफ्तर धावा बोला पुलिस को देखते ही दलालों में खलबली मच गयी। पुलिस ने चकिया के बियासन निवासी रंजीत पासवान, लौदा निवासी अरविंद, दीवाकर कुमार, डाडी के गोकुल अग्रवाल, जनसो की मड़ई निवासी सुनील, पीडीडीयू नगर के अशोक जायसवाल और सैयदराजा निवासी कमर रफीक को गिरफ्तार कर लिया व उठाकर अलीनगर थाने पूछताछ हेतु ले आयी.व इनसे फर्जी दस्तावेज के बारे में जानकारी हासिल किया.
यह पहला मामला नही जब एआरटीओ दफ्तर पर छापेमारी की गई इससे पहले भी कई बार छापेमारी पूर्व में की गई और कार्यवाही भी हुई लेकिन दलालों के चंगुल से आजतक आरटीओ कार्यालय मुक्त नही हुआ इसके पीछे वजह कही एआरटीओ प्रशासन की मिलीभगत तो नही जो अपने संरक्षण मे ही दलालों के सहारे इस काम को अंजाम दे रहे हैं फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच कर रही हैं पुलिस की माने तो जो आरोपितों के पास से छह लैपटॉप, एक सीपीयू, छह प्रिंटर, नौ मुहर और चार मुहर पैड बरामद किए गए। आरोपितों ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि नए मोटर व्हीकल अधिनियम लागू होने के बाद वाहन चालकों से अधिक पैसा लेकर फर्जी कागजात बनाते थे। लंबे समय से इस मामले की शिकायत पुलिस को मिल रही थी मगर कार्रवाई के बाद अब उम्‍मीद जगी है कि आपराधिक गतिविधियों में लगाम लग सकेगी.
अन्य राज्य पुलिस लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack