Friday, 20 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

J&K के हालातों के मद्देनज़र एयर इंडिया, एयर एशिया-विस्तारा का एलान

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 03, 2019, 13:27 pm IST
Keywords: Jammu Kashmir   Jammu   India   Jammu News   Kashmir News   श्रीनगर   जम्मू-कश्मीर   
फ़ॉन्ट साइज :
J&K के हालातों के मद्देनज़र एयर इंडिया, एयर एशिया-विस्तारा का एलान

श्रीनगर: एयर इंडिया ने जम्मू-कश्मीर के हालात को देखते हुए अपने यात्रियों की सुविधा के लिए एक फैसला लिया है. कंपनी ने 15 अगस्त तक अपनी सभी उड़ानों के रिशेड्यूल या रद्द होने पर यात्रियों को टिकट के पूरे पैसे लौटाने का निर्णय किया है. एयर इंडिया के अलावा एयर एशिया ने भी इसी तरह की घोषणा दो से पांच अगस्त तक के लिए की है.

इन दोनों के अलावा विस्तारा एयरलाइन्स ने भी 2 से 9 अगस्त तक श्रीनगर से जुड़ी सभी उड़ानों को रद्द या रिशेड्यूल होने की स्थिति में पूरा पैसा लौटाने का एलान किया है.

बता दें कि सरकार ने आतंकी हमले के अलर्ट को देखते हुए राज्य में चल रही अमरनाथ यात्रा को रोकने का फैसला किया है. वहीं कुछ दिनों पहले ही अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियों के 10 हजार जवान बढ़ाने की घोषणा की गई थी. इसके बाद गुरुवार को 281 कंपनियों के और 25 हजार जवानों को कश्मीर में तैनात करने का फैसला लिया गया. इन सभी फैसलों के मद्देनज़र जम्मू-कश्मीर में अफरातफरी का माहौल है और ऐसी स्थिति में अगर कोई भी हवाई यात्रा इन कंपनियों द्वारा कैंसिल किया जाता है तो पूरा पैसा यात्रियों को लौटाया जाएगा.

DGCA की एयरलाइंस को सलाह, श्रीनगर से अतिरिक्त उड़ानों के लिए तैयार रहे

कश्मीर में स्थिति अशांत होने के बीच एविएशन रेगुलेटर डीजीसीए ने शुक्रवार को एरलाइंस को सलाह दी कि वे जरूरत पड़ने पर श्रीनगर हवाई अड्डे से अतिरिक्त उड़ानों के संचालन के लिए तैयार रहें. डीजीसीए की यह सलाह, भारतीय सेना की उस सूचना के कुछ ही घंटों के भीतर आयी है, जिसमें सेना ने खुफिया सूचनाओं का हवाला देते हुए कहा था कि पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं. एक सूत्र ने बताया, "डीजीसीए ने एरलाइंसों को सलाह दी है कि वे जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त उड़ानें भरने के लिए तैयार रहें."

रात करीब पौने नौ बजे श्रीनगर हवाई अड्डे पर स्थिति की जांच की गयी और उसे सामान्य पाया गया. ऐसा पाया गया कि अभी अतिरिक्त उड़ानों की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन बाद में अगर जरूरत पड़ती है तो एयरलाइंसों को सलाह दी गयी है कि वे अतिरिक्त उड़ानों के लिए तैयार रहें.

अन्य सुरक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack