Sunday, 22 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

बिहार: औरंगाबाद जिले में 34, गया में 35 और नवादा में 14 लोगों की लू लगने से मौत

जनता जनार्दन संवाददाता , Jun 18, 2019, 19:42 pm IST
Keywords: Heat Strock   Heat   Health News   Healthy News   Healthy India   Heatwave Bihar 83 Dead Bihar   बिहार सरकार   शारीरिक गतिविधि   उपवास   गर्मी  
फ़ॉन्ट साइज :
बिहार: औरंगाबाद जिले में 34, गया में 35 और नवादा में 14 लोगों की लू लगने से मौत

पटना: बिहार में गर्मी के इस मौसम में लू लगने से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 83 हो गयी है. आपदा प्रबंधन विभाग के नियंत्रण कक्ष से मंगलवार को प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रदेश में लू लगने से अब तक 83 लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें औरंगाबाद जिले में 34, गया में 35 और नवादा में 14 लोगों की मौत हुई है.

आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से मृतकों के परिजनों को अनुग्रह अनुदान राशि मुहैया कराए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश में भीषण गर्मी और लू की वजह से हुई मौत के मामलों की कल समीक्षा की थी और आवश्यक निर्देश दिए थे.

मुख्यमंत्री द्वारा की गयी समीक्षा के बाद मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया था कि मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अगले तीन दिनों तक मौसम की यही स्थिति बने रहने की संभावना के मद्देनजर सरकार ने 22 जून तक पूरे राज्य में सारे स्कूल, कोचिंग सस्थान और कॉलेज को बंद रखने का फैसला किया है. दीपक कुमार ने बताया कि प्रदेश में जारी निर्माण कार्य सुबह दस बजे से पहले और शाम में कराए जाने का निर्णय लिया गया.

पटना में शनिवार को अधिकतम तापमान 2009 के बाद के पिछले 10 साल के रिकॉर्ड को पार कर गया था. पटना शहर में सोमवार को न्यूनतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के वैज्ञानिक आनंद शंकर ने पश्चिम दिशा से आने वाली हवा से 21-22 जून को अच्छी बारिश की संभावना जताई. उन्होंन बताया कि कल बिहार के उत्तरी भाग में मध्यम वर्षा और दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र में हुई हल्की बारिश के मद्देनजर उत्तर बिहार में लू में कमी और दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र और दक्षिण-मध्य क्षेत्र में कुछ जिलों में आज और कल लू की स्थिति बनी रहने की संभावना बनी रहेगी. अगले पांच दिनों के मौसम पूर्वानुमान के अनुसार बारिश की संभावना बनी हुई है.

अन्य प्रकृति लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack