Wednesday, 28 October 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चंदौली सांसद महेंद्र नाथ पांडेय बने केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, जानें सियासी सफर

अमिय पाण्डेय , May 30, 2019, 20:19 pm IST
Keywords: Mahendra Nath Pandey   Amruta Pandey   Daughter-in-law   Priyanka Gandhi Vadra   Cabinet Minister Mahendranath pandey   महेंद्र नाथ पांडेय  
फ़ॉन्ट साइज :
चंदौली सांसद महेंद्र नाथ पांडेय बने केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, जानें सियासी सफर
चंदौली: चंदौली से सांसद डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय मोदी सरकार-02 में कैबिनेट मंत्री बने महेंद्र नाथ पांडेय मोदी सरकार में 2014 में भी मंत्री रह चुके थे और उत्तरप्रदेश राज्य के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके है.दरअसल, वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव तक भाजपा को ब्राह्मण-बनियों की पार्टी कहा जाता था। समाज के एक वर्ग में यह चर्चा थी कि पार्टी इस वर्ग के अलावा किसी और के बारे में नहीं सोचती। लिहाजा, पार्टी और संगठन के स्तर पर एक बड़ा बदलाव किया गया। यह बदलाव ओबीसी के साथ ही दलितों को भी संगठन में समाहित करने और उन्हें बराबर का महत्व देने की रणनीति के रूप में हुआ। इसके बाद पार्टी में बातें होने लगीं कि भाजपा में ब्राह्मणों की अनदेखी की जा रही है। इसी के मद्देनजर 2017 में जब सरकार बनी तो केशव प्रसाद मौर्य को उपमुख्यमंत्री पद सौंपा गया और उनके स्थान पर केंद्रीय मंत्री व पूर्वांचल में भाजपा के कद्दावर नेता महेंद्र नाथ पांडेय को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया।

पार्टी नेतृत्व के विश्वासपात्र

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने महेंद्र नाथ पांडेय को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी बड़े लक्ष्यों के साथ सौंपी थी, जिसे पूरा करने में वह काफी हद तक सफल भी रहे हैं। उन्होंने संगठन में सभी वर्गों को संतुष्ट करने का प्रयास किया है। पार्टी पदाधिकारी उनकी सरलता, सौम्यता और मृदुभाषी व्यक्तित्व की प्रशंसा करते हैं। महेंद्र नाथ पांडेय की राम जन्मभूमि आंदोलन में भी भागीदारी रही है। आपातकाल में वह पांच माह के लिए डीआरडीए के तहत जेल भेजे गए थे। प्रथम राम जन्मभूमि आंदोलन में मुलायम सिंह यादव की सरकार में उन्हें रासुका के तहत निरुद्ध कर दिया गया था।


-15 अक्तूबर 1957 को गाजीपुर के पखनपुर गांव में जन्म
-एमए, पीएचडी के साथ ही पत्रकारिता में परास्नातक डिग्री
-पूरी शिक्षा-दीक्षा वाराणसी से हुई, 1978 में बीएचयू छात्रसंघ में महामंत्री रहे
-वर्ष 1978 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े

सियासी सफर

-पहली बार वर्ष 1991 में विधायक बने, यूपी की कल्याण सिंह सरकार में नगर आवास राज्यमंत्री का पद संभाला
-1996 में दोबारा विधानसभा पहुंचे, 1998 से 2000 तक पंचायत राज्यमंत्री और नियोजन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रहे
-2014 में भाजपा के टिकट पर चंदौली से लड़ा लोकसभा चुनाव और जीते, अगस्त 2017 में यूपी भाजपा के अध्यक्ष बनाए गए

सोशल प्रोफाइल

-अप्रैल 2014 में ट्विटर से जुड़े
-2.08 लाख से अधिक लोग करते हैं फॉलो
-8411 ट्वीट कर चुके हैं अभी तक

अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack