Friday, 20 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पूर्व विधायक मनोज सिंह का संसदीय क्षेत्र चन्दौली की जनता के बीच रहना, कहीं गठबंधन से टिकट फाइनल का संकेत तो नही?

पूर्व विधायक मनोज सिंह का संसदीय क्षेत्र चन्दौली की जनता के बीच रहना, कहीं गठबंधन से टिकट फाइनल का संकेत तो नही?
चन्दौली: लोकसभा चुनाव 2019 के चुनावी सीजन में जब से सपा और बसपा गठबंधन करके चुनाव मैदान में आई हैं तब से चन्दौली का समीकरण औऱ यहां की फिजायें बदली-बदली सी लग रही है.साथ ही और चन्दौली में ये सीट आज-तक सपा के खाते में ही है यानी समाजवादी पार्टी का स्थानीय सक्रिय कार्यकर्ता यहां से चुनाव लड़ेगा लेकिन कुछ लोगों और विश्वस्त सूत्रों द्वारा जो पार्टी मुख्यालय से जुड़े हैं ये भी कहां जा रहा कि ये सीट बदल सकती और बसपा के खाते में जा सकती है लेकिन ऐसा कोई अधिकारिक पुष्टि गठबंधन की तरफ से मायावती व अखिलेश यादव द्वारा अबतक सामने नही आई है. ये तो सिर्फ जनपद चन्दौली संसदीय क्षेत्र की जनता अपने अपने प्रत्याशियो के लिए और समर्थकों के लिए मनगढ़ंत चीज़े रयूमर फैला रही हैं, वर्तमान में चन्दौली सीट सपा के लिए छोड़ा गया हैं,ऐसे में ये कयास लगाया जा रहा कि स्थानीय नेता को पार्टी टिकट देकर चुनाव मैदान में चुनाव लड़वाना चाहती हैं. जो वास्तव में ज़मीनी राजनीति से जुड़ा हो और जो ये सीट जीत सकता हैं.
 
दूसरी तरफ पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू की सक्रियता इन दिनों तेज हुई है चाहे होली के त्योंहार हो वह जनता जनार्दन के बीच जाकर मना रहे या लोगों से मिलने के बाद उनकी बातों को भी वह प्राथमिकता से सुन रहें हैं.पुलिस प्रशासन भी इनके हर हरकत पे नज़र बनाये हुयी है.जिससे कही भी आचार संहिता का उलंघन न हो.
 
पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू जनता के बीच जहां लगातार जा रहे हैं औऱ वहीं लोगों की जनसमस्या को भी सुन रहे है.ऐसे में चन्दौली की जनता को लग रहा कि मनोज सिंह डब्लू चुनाव मैदान मे उतरकर सांसद बनकर जनता के बीच सेवा देंगे.

कौन है?मनोज कुमार सिंह डब्लू
शुरुआत करते हैं पूर्व विधायक मनोज सिंह से. मनोज कुमार सिंह डब्लू डबरिया माधोपुर के रहने वाले है जो धानापुर कमालपुर के एरिया में आता है और सैयदराजा विधानसभा में आता हैं इनका पूरा परिवार हैदराबाद रहता है और अपने व्यवसाय में जुड़ा है मनोज कुमार सिंह डब्लू पहली बार 2012 विधानसभा चुनाव में बृजेश सिंह को हरा कर चुनाव जीतकर सैयदराजा के विधायक बनें.

मनोज उस समय  निर्दल ही चुनाव लड़े थे मनोज सिंह डब्लू विधानसभा 2012 के चुनाव मैदान में कैंची चुनाव चिन्ह से चुनाव लड़े थे जो बहुत ही चर्चित रहा और विजयी हुए. इससे पहले मनोज समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी रह चुके थे, लेकिन तब 2012 में मुलायम का दिल मनोज पर मेहरबान नहीं हुआ और यहाँ से हिरन सिंह ने चुनाव लड़ा और हार गए.

मनोज सिंह 'डब्लू' चुनाव जीतने के बाद सपा में वापस आ गए तब से ये सक्रिय रूप से समाजवादी पार्टी के लिए राजनीति करने लगे जिसका परिणाम ये रहा कि 2017 की विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने मनोज पर भरोसा कर सपा और कांग्रेस के गठबंधन से दोबारा अपने विधानसभा सैयदराजा से चुनाव के लिए टिकट दे दिया. लेकिन पूर्व विधायक मनोज सिंह को इस चुनाव में हार का सामना करना पड़ा और वह नंबर तीन पे चले गए.

अब देखना ये होगा कि पार्टी मनोज कुमार सिंह डब्लू को अगर लोकसभा का टिकट देती है तो पूर्व विधायक इसपर कितना खरा उतरते है और लोगों का दिल कैसे जीतते हैं.

अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack