Thursday, 17 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

नए वित्तीय साल की शुरुआत: आज से बदल जाएगा बहुत कुछ, यहां जानें?

जनता जनार्दन संवाददाता , Apr 01, 2019, 9:05 am IST
Keywords: Finance Minister   Finance Year   Change Fiance Year   Income Tax Rules   Income Tax Department   नए वित्तीय साल   
फ़ॉन्ट साइज :
नए वित्तीय साल की शुरुआत: आज से बदल जाएगा बहुत कुछ, यहां जानें?

दिल्ली: आज एक अप्रैल है यानी आज से नए वित्त वर्ष का आगाज हो रहा है. नए वित्तीय वर्ष में आपके जीवन में काफी कुछ बदल जाएगा. ये बदलाव सीधे आपकी रोजमर्रा की जिंदगी पर असर डालने वाले हैं. इन बदलावों में कुछ बदलावों से तो आपको राहत मिलेगी लेकिन कुछ बदलाव ऐसे हैं जो आपकी परेशानी बढ़ा सकते हैं. यहां जानें आज से होने वाले बड़े बदलाव के बारे में.

5 लाख तक की टैक्सेबल आय पर कोई टैक्स नहीं लगेगा
आज से पांच लाख रुपये तक की इनकम पर कोई टैक्स नहीं देना होगा, दरअसल केंद्र सरकार ने अंतरिम बजट 2019 में पांच लाख रुपये तक की आय को फ्री कर दिया है. लेकिन अगर आपकी आय इससे ज्यादा है तो आपको पुरानी दरों के हिसाब से ही टैक्स देना पड़ेगा. इसके साथ ही आज से आप ज्यादा टैक्स बचा पाएंगे. दरअसल स्टैंडर्ड डिडक्शन को 40 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये करने का एलान भी सरकार ने अंतरिम बजट 2019 में की थी.

 
घर खरीदना होगा सस्ता

आज से घर खरीदना भी सस्ता हो जाएगा. जीएसटी की नई दरें आज से लागू होंगी इससे अंडर कंस्ट्रक्शन घरों पर GST 5% और किफायती श्रेणी वाले मकानों पर 1% GST लगेगा, पहले ये आठ प्रतिशत था.

नेशनल पेंशन स्कीम में मिलने वाले ब्याज पर टैक्स नहीं लगेगा
इस बदलाव से केंद्र सरकार के आधीन आने वाले लाखों कर्मचारियों को फायदा होगा. दरअसल सरकार ने एनपीएस में लगाया जाने वाला पैसा, उससे आने वाला ब्याज और मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर मिलने वाला अमाउंट तीनों को टैक्स फ्री कर दिया है. इसे EEE यानी एग्जेंप्ट-एग्जेंप्ट-एग्जेंप्ट का दर्जा दिया है. एनपीएस में सरकार ने अपने योगदान में भी बढ़ावा किया है, इसे 10 फीसदी से बढ़ाकर 14 फीसदी किया गया है. यह बदलाव भी आज से लागू होगा.


10 फीसदी महंगी होंगी प्राकृतिक गैसें 
आज से प्राक्रतिक गैस की कीमतों में भी 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी होगी. इस बढ़ोतरी का सीधा असर आप पर पड़ेगा, दरअसल प्राकृतिक गैस महंगी होने से सीएनजी और पाइप वाली रसोई गैस (पीएनजी) महंगी हो जाएगी. इसके साथ ही यूरिया उत्पादन की लागत भी बढ़ जाएगी. बता दें कि प्राकृतिक गैस की कीमतों का यह तीन साल का उच्चतम स्तर होगा.


टाटा, महिंद्रा समेत कई कंपनियों की गाड़ियां महंगी हो जाएंगी
लागत बढ़ने और अन्य आर्थिक कारणों से विभिन्न कंपनियों के वाहन एक अप्रैल से महंगे हो जाएंगे. इनमें महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स, टोयोटा, निसान इंडिया और रेनो जैसी कंपनियां शामिल हैं. टाटा मोटर्स ने पिछले सप्ताह अपने वाहनों के दाम एक अप्रैल से 25 हजार रुपये तक बढ़ाने की घोषणा की थी. कंपनी ने लागत खर्च बढ़ने और बाह्य आर्थिक परिस्थितियों को कीमतें बढ़ाने का कारण बताया था. कंपनी अभी नैनो से लेकर प्रीमियम एसयूवी हेक्सा तक बेचती है जिनकी कीमत 2.36 लाख रुपये से 18.37 लाख रुपये तक है.


आज देश को तीसरा सबसे बड़ा बैंक मिल जाएगा
बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक, विजया बैंक का विलय होने से आज देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक मिल जाएगा. इस साल जनवरी में सरकार ने पब्‍लिक सेक्‍टर के दो बैंक- देना बैंक और विजया बैंक के बैंकों बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय को मंजूरी दी थी. आज होने वाले इस विलय के बाद देना बैंक और विजया बैंक के कर्मचारी, खाते, शेयर आदि बैंक ऑफ बड़ौदा के अधीन हो जाएंगे. बता दें इस विलय का असर तीनों बैंकों के करोड़ों ग्राहकों पर पड़ेगा.

ट्रेन टिकट की रकम हो सकेगी रिफंड
रेलवे आज से यात्रियों के लिए एक नई सुविधा की शुरुआत कर रहा है. रेलवे अब अपने यात्रियों के लिए संयुक्त पैसेंजर नेम रेकॉर्ड जारी करेगा. इसे ऐसे समझें कि अगर आप एक ट्रेन से यात्रा के बाद दूसरी ट्रेन में सफर करेंगे तो इन दोनों यात्राओं के लिए आपको एक ही पीएनआर जारी किया जाएगा. इस नए नियम के आने से अगर पहली ट्रेन लेट होने के कारण अगली ट्रेन छूट जाती है तो उन्हें अगली यात्रा का पूरा पैसा रिफंड मिलेगा.


नौकरी बदलने पर अपने आप ट्रांसफर हो जाएगा पीएफ
नए वित्तीय वर्ष में ईपीएफओ के नए नियम भी आज से लागू हो जाएंगे. इसके तहत नौकरी बदलने पर आपके पीएफ का पैसा अपने आप ट्रांसफर हो जाएगा. अभी ईपीएफओ के सदस्यों को UAN (यूनिवर्सल अकाउंट नंबर) रखने के बाद भी पीएफ ट्रांसफर करने के लिए अलग से आवेदन करना पड़ता है. ईपीएफओ के पास हर साल ट्रांसफर के करीब 8 लाख आवेदन आते हैं.


टीडीएस की सीमा बढ़कर 40 हजार होगी
नए वित्तीय वर्ष में ब्याज से होने वाली आय पर टीडीएस की सीमा सालाना 10 हजार रुपये से बढ़कर 40 हजार रुपये हो गई है. इससे बैंक और डाकघर के वरिष्ठ नागरिकों और छोटे जमाकर्ताओं को फायदा होगा. अभी तक ये जमाकर्ता 10 हजार रुपये प्रति वर्ष तक की ब्याज आय पर कटे कर का रिफंड मांग सकते थे.

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack