Saturday, 23 March 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

लोकसभा चुनाव 2019: दलित, ब्राह्मण, यादव मुस्लिम का भाईचारा, इनके आगे हर कोई हारा': BSP ने दिया स्लोगन

जनता जनार्दन संवाददाता , Mar 13, 2019, 11:18 am IST
Keywords: Loksabha Poll 2019   Upcoming Loksabha Election   Loksabha 2019   Election 2019   Narendra Modi Blog   Modi   Congress Party   Loksabha Poll 2019   Mayawati   Bsp Chif Mayawat   Loksabha Election 2019   बसपा सुप्रीमो   मायावती  
फ़ॉन्ट साइज :
लोकसभा चुनाव 2019: दलित, ब्राह्मण, यादव मुस्लिम का भाईचारा, इनके आगे हर कोई हारा': BSP ने दिया स्लोगन

दिल्ली: लोकसभा चुनावों की तारीखों के एलान के साथ ही सभी पार्टियां अब सुपर एक्टिव होकर काम कर रहीं हैं. बीजेपी को चुनावी रण में पटखनी देने के लिए प्रत्येक राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने एजेंडे पर काम कर रही है. चुनाव में हर संभव कोशिश करके  बीजेपी को पटखनी देने के लिए तैयारी कर रही है. लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बीएसपी ने पहली बार वॉर रूम तैयार किया है, जहां से हर सवाल का जवाब दिया जाएगा. इसके साथ ही बीएसपी ने नया चुनावी नारा भी दिया है. 'दलित, ब्राह्मण, यादव मुस्लिम का भाईचारा, इनके आगे हर कोई हारा'. 

इसके साथ ही ये जानकारी है कि बसपा सुप्रीमो ने 14 मार्च को बसपा कोर कमेटी की बैठक बुलाई है. इस बैठक में सभी जोनल कॉडीनेटर और प्रभरियों को बुलाया गया है. इस बैठक में उम्मीदवारों के टिकट फाइनल होंगे. बैठक के बाद बसपा उम्मीदवारों की सूची को जारी कर देगी.  

जानकारी के मुताबिक, लखनऊ स्थित मायावती के माल एवेन्यू स्थित आवास को लोकसभा चुनाव के लिए बसपा केंद्रीय कैंप कार्यालय के रूप में तैयार किया जा रहा है. चुनावों के लिए यहां पहली बार बीएसपी सुप्रीमो मायावती वॉर रूम तैयार करवा रहीं हैं. इसके लिए उन्होंने खास लोगों को जिम्मेदारी भी दी है. सोशल मीडिया विशेषज्ञों की एक टीम वार रूम में लगाया गया है, जो ट्विटर, फेसबुक और वाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर मायावती के विचारों को शेयर कर सोशल मीडिया पर हो रही एक-एक गतिविधियों पर नजर रखेंगे.

हालांकि, बीएसपी की तरफ से मंगलवार को ये बयान आया था कि आगामी लोकसभा चुनावों में भी 'हाई टेक प्रचार प्रसार' से दूर रहेगी और पार्टी पुराने परंपरागत तरीके अपनाकर ही चुनाव मैदान में उतरेगी. आपको बता दें कि हाल ही में मायावती ट्विटर से जुड़ी और कुछ ही दिनों में उनके फॉलोअर की संख्या करीब डेढ़ लाख तक पहुंच गई है. ट्विटर पर आने के बाद से मायावती ने अपनी बात कहने का इस समय सबसे बड़ा सहारा बनाया है. 

अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या 2019 लोकसभा चुनाव में NDA पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack