Tuesday, 11 December 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

मैसेज जारी कर बोला बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी- घटनास्थल पर था ही नहीं

जनता जनार्दन संवाददाता , Dec 05, 2018, 17:56 pm IST
Keywords: Bulandshahar   UP Crime News   Bulandshahar Violance   बुलंदशहर हिंसा   बदमाशों का एनकाउंटर  
फ़ॉन्ट साइज :
मैसेज जारी कर बोला बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी- घटनास्थल पर था ही नहीं

Desk JJ: बुलंदशहर की स्याना में भड़की हिंसा का मुख्य आरोपी और बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज भले ही अभी तक पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा हो, लेकिन उसने एक वीडियो जारी करके अपनी सफाई पेश की है. उसका कहना है कि वह घटना स्थल पर नहीं बल्कि घटना के वक्त थाने में था.

उत्तर प्रदेश की बहादुर पुलिस... बदमाशों का एनकाउंटर करने वाली पुलिस... बात-बात पर लाठी चलाने वाली पुलिस... अपराधियों का खात्मा करने का दावा करने वाली पुलिस... अपने इंस्पेक्टर के हत्यारे को तलाश नहीं कर पा रही है. इसके उलट यूपी पुलिस का मोस्ट वॉन्टेड योगेश खुलेआम वीडियो जारी कर रहा है. अपनी सफाई दे रहा है.

जो वीडियो उसने जारी किया है, उसमें वो क्लीन शेव दिख रहा है. वो किसी पेड़ के आगे खड़े होकर बोल रहा है. उसके चेहरे पर कोई शिकन या अफसोस नहीं दिखता. जो योगेश ने वीडियो में बोला है, हम आपको हुबहू बता रहे हैं- "जय श्री राम. मैं योगेश राज, जिला संयोजक, बजरंग दल, बुलंदशहर. जैसा कि आप बुलंदशहर की में हुई स्याना में हुई गोकशी प्रकरण को आप लोग देख रहे होंगे. पुलिस मुझे इस प्रकार प्रस्तुत कर रही है, जैसे कि मेरा कोई बहुत बड़ा आपराधिक इतिहास हो. मैं आप सब लोगों को यह बताना चाहता हूं कि उस दिन दो घटनाएं घटित हुई थी.

पहली घटना स्याना के नजदीक गांव महाव में गोकशी की हुई. जिसकी सूचना पाकर मैं अपने के साथियों सहित मौके पर पहुंचा था. प्रशासनिक लोग भी वहां पर पहुंचे थे. और मामले को शांत करके हम सब लोग अपने साथियों सहित स्याना थाने में मुकदमा लिखवाने आ गया था. थाने में बैठे बैठे जानकारी प्राप्त हुई कि उक्त स्थल पर ग्रामीणों ने पथराव कर दिया है. और वहां पर फायरिंग हुई है जिसमें एक युवक को गोली लगी है. और एक पुलिसवाले को भी गोली लगी है.

जब हमारी मांग पूर्ण करके मुकदमा स्याना थाने में लिखा जा रहा था. तो बजरंग दल कोई आंदोलन प्रदर्शन क्यों करता. मैं दूसरी घटना में उक्त स्थल पर मौजूद नहीं था. मेरा दूसरी घटना से कोई लेना देना नहीं है. ईश्वर मुझकों न्याय दिलाएंगे. मुझे ऐसा भगवान पर पूर्ण भरोसा है. धन्यवाद."

अन्य अपराध लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack