Tuesday, 11 December 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

शातिर नटवरलाल को मुगलसराय पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है पूरा मामला

शातिर नटवरलाल को मुगलसराय पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने क्या है पूरा मामला
अभी तक तो आपने कुख्यात अपराधियो को रंगदारी के लिए लोगो को धमकाते और वसूली करते सुना होगा लेकिन आज हम आपको ऐसे शातिर अपराधी से रूबरू कराएंगे जो अंडरवर्ल्ड के कुख्यात अपराधियो के नाम पर केवल जनप्रतिनिधियो को ही अपना शिकार बनाता था.
 
तस्बीर में पुलिस के हत्थे चढ़ा ये शक्श कोई आम अपराधी नही है बल्कि ये वो शातिर अपराधी अपराधी है जिसने पिछले कुछ दिनों से चन्दौली पुलिस की नींद हराम कर रखी थी इससे पहले की हम पूरा मामला बताये पहले इस शातिर के बारे में जान लीजिए इस शातिर शक्श का नाम सोनू उर्फ शम्भूनाथ उर्फ मनीष अरोड़ा है और यह पड़ोसी जनपद वाराणसी के दशाश्वमेध थानाक्षेत्र का रहने वाला है इस पर दशाश्वमेध थाने में एक दर्जन और सारनाथ में भी कई मुकदमे दर्ज है और ये खुलेआम अंडरवर्ल्ड के नामी अपराधियो के नाम पर जनप्रतिनिधियों से रंगदारी की मांग करता था 
 
बताते है कि इसी बीच इसकी नजर चन्दौली के सांसद और बी जे पी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ ।महेंद्र नाथ पांडेय के बेहद करीबी और जिलापंचायत सदस्य शिवशंकर पटेल पर पड़ी और इसने बेहद शातिराना ढंग से उनसे फिरौती के रूप में लाखों रुपये की मांग कर डाली इसके लिए बाकायदा इसने उनके कार्यालय में पहुच कर खुद को अंडरवर्ल्ड के एक कुख्यात अपराधी का भाई बताते हुए रंगदारी की मांग करने लगा मामले के हाई प्रोफाइल होने व बी जे पी के प्रदेश अध्यक्ष के बेहद करीबी का होने के कारण चन्दौली पुलिस में हड़कंप मच गया इससे पहले की बात अंजाम तक पहुचती सर्विलांस और मुगलसराय बलुआ और स्वाट टीम ने मुखबिर का जाल बिछाकर इसे बलुआ थाना क्षेत्र के चहनियां बाजार से गिरफ्तार कर लिया 
 
-इस संबंध में पीड़ित शिवशंकर पटेल से शातिर सोनू अरोड़ा की पहचान कराने के बाद पुलिस की पूछताछ के बाद सामने आई हकीकत जानकर पुलिस के भी पैरो के नीचे से जमीन खिसक गई पूछताछ में इसने पूर्वांचन्चल के जौनपुर गाजीपुर वाराणसी और आसपास के कई जनपदों से कई प्रतिष्ठित जनप्रतिनिधियों से इसी प्रकार फिरौती की मांग करने की बात स्वीकार की है इस शातिर के इस प्रकार  पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद चन्दौली पुलिस के साथ ही वाराणसी गाजीपुर सहित कई जनपदों की पुलिस राहत की सांस ले रही है जिनकी इसकी लंबे समय से इसकी तलाश थी !
अन्य राज्य पुलिस लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack