Saturday, 19 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

राजस्थानः तो क्या हिंदुत्व कार्ड खेलेगी बीजेपी? गायब है मुस्लिम चेहरा

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 13, 2018, 17:52 pm IST
Keywords: Rajasthan Elections   Rajasthan Assembly Election 2018   BJP India   BJP Rajasthan   राजस्थान   राजस्थान विधानसभा चुनाव   मुस्लिम उम्मीदवार   
फ़ॉन्ट साइज :
राजस्थानः तो क्या हिंदुत्व कार्ड खेलेगी बीजेपी? गायब है मुस्लिम चेहरा

Desk JJ: क्या राजस्थान का विधानसभा चुनाव इस बार बीजेपी हिंदुत्व के मुद्दे पर लड़ेगी? जिस तरह से बीजेपी ने अपनी पहली सूची में किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया है उसे लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

दरअसल, राजस्थान में शुरू से ही  6 से 4 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट देती रही है, लेकिन इस बार 5 बार के विधायक रहे नागौर के बीजेपी विधायक हबीबुर्रहमान का टिकट काट दिया गया है.

सत्तारुढ़ बीजेपी ने एक दिन पहले चुनाव के लिए उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी. 200 सदस्यीय विधानसभा के लिए 131 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट में 12 महिलाओं और 32 युवा चेहरों को मौका दिया गया जबकि इसमें मुस्लिम नाम नदारद हैं.

सरकार के नंबर 2 का नाम भी गायब!

सरकार में पिछले 5 साल से नंबर दो की हैसियत से 2-2 मंत्रालय (पीडब्ल्यूडी और रोडवेज) संभालने वाले यूनुस खान का नाम पहली सूची से गायब है. इसी तरह सीकर और झुंझुनू में बीजेपी मुस्लिम उम्मीदवार खड़ा करती आई है जहां पर इस बार टिकट नहीं दिया है.

इसके अलावा खुद क्षेत्र धौलपुर से भी दो बार सगीर अहमद विधायक रह चुके हैं, लेकिन इस बार उन्हें भी टिकट नहीं दिया गया है. वसुंधरा राजे के चुनाव क्षेत्र झालावाड़ में भी मुस्लिम बड़ी संख्या में वसुंधरा राजे को वोट देते आए हैं और वहां पर उनके चुनाव का पूरा जिम्मा असद अली संभालते हैं और झालावाड़ के बीजेपी दफ्तर भी असद अली के घर से चलता है.

हमेशा से 36 के 36 कौमों को साथ लेकर चलने की बात करती रही है, लेकिन इस बार कई सीटों पर संघ के दबाव में वसुंधरा राजे को झुकना पड़ा है.

योगी आदित्यनाथ की 40 रैलियां

ऐसे में माना जा रहा है कि बीजेपी की राजस्थान में घटती लोकप्रियता को भरने के लिए बीजेपी हिंदुत्व के एजेंडे पर सवार हो सकती है. बीजेपी की तरफ से मुस्लिम उम्मीदवारों का खड़ा ना होना तो चर्चा का विषय बना हुआ है.

इस बार राजस्थान के चुनाव में 40 रैलियां उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रखी गई हैं. इसके अलावा चार रोड शो भी योगी आदित्यनाथ करेंगे. योगी आदित्यनाथ का इस तरह से राजस्थान में रैली और सभा करवाना यह दिखाता है कि बीजेपी राजस्थान विधानसभा चुनाव में अपना ब्रह्मास्त्र हिंदुत्व को चल सकती है.

इसके पहले भी बीजेपी मॉब लिंचिंग और बूंदी जैतारण जैसे दंगों में अपने पार्टी वर्कर और एमएलए के साथ खड़ी रही है.

नागौर में आरएसएस

नागौर में  दो विधायक जीतते रहे हैं. पांच बार के एमएलए हबीबुर्रहमान और वसुंधरा के सबसे करीबी मंत्री यूनुस खान को टिकट नहीं मिलने पर ऐसा कहा जा रहा है कि नागौर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपने हिंदुत्व की एक प्रयोगशाला के रूप में देख रहा है.

पिछले 5 सालों में संघ प्रमुख मोहन भागवत दो बार नागौर में प्रवास कर चुके हैं. इसके अलावा दिल्ली में भी आतंकी घटनाओं में कई अल्पसंख्यकों के गिरफ्तारी नागौर से हुई है. नागौर में भारत माता के खिलाफ नारे लगाने पर 10 मुस्लिम लड़के भी लंबे समय तक जेल में रहे.

इस मामले पर जब प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी से पूछा गया कि क्यों बीजेपी किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को पहली सूची में जगह नहीं दी है. सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस ने अभी तक मुसलमानों को टिकट देकर उन्हें ठगा है. अल्पसंख्यक समाज में शिक्षा, भुखमरी और गरीबी की जितनी समस्याएं हैं वह सब कांग्रेस की देन है. टिकट देने नहीं देने से कोई फर्क नहीं पड़ता.

अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack