Monday, 19 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

दो करोड़ में मुगलसराय बन गया दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन

दो करोड़ में मुगलसराय बन गया दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन
चन्दौली: जी हां सुनने में कुछ अजीब लगेगा लेकिन यह सच्चाई है, मुगलसराय जंक्शन से दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन करने में रेलवे के कुल लगभग 2 करोड रुपए खर्च हुए । यह खुलासा वरिष्ठ अधिवक्ता एवं आरटीआई एक्टिविस्टों  की संस्था "रक्त "के अध्यक्ष तथा आम आदमी पार्टी के जिला मीडिया प्रभारी श्री संतोष कुमार "एडवोकेट "द्वारा रेलवे विभाग से मांगी गई सूचना से हुआ है ।
 
मुगलसराय के नाम परिवर्तन के लिए 5-8 -2018 को मुगलसराय के यूरोपियन कॉलोनी में बड़ी रैली ,भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित की गई थी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा• अमित शाह जी, रेल मंत्री माननीय पियूष गोयल जी ,उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंदौली के वर्तमान सांसद माननीय डॉ महेंद्र नाथ पांडे जी भी उपस्थित थे। 
 
श्संतोष कुमार पाठक "एडवोकेट "ने रेलवे विभाग से दिनांक 31-08-2018 को यह आरटीआई एक्ट के तहत सवाल पूछा था कि उपरोक्त माननीयों के लिये आयोजित सभा में लगाए गए वाटरप्रूफ पंडाल, मंच,साउंड ,कुर्सी,माला तथा उनके खानपान में कुल कितना खर्च किया गया धान। 
 
उपरोक्त आरटीआई के जवाब में अपर मंडल रेल प्रबंधक पूर्व मध्य रेल मुगलसराय एस•के• वर्मा ने अपने पत्रांक-कार्मिक /आरटीआई एक्ट 05-134/ अपील -मुगल•दिनांकित  30-10- 2018 के माध्यम से श्री संतोष कुमार पाठक" एडवोकेट" को बताया कि मुगलसराय जंक्शन से पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के नाम परिवर्तन एवं इससे संबंधित सारे कार्यक्रमों में रेलवे ने स्थानीय स्तर पर कूल 1 करोड़ 90 लाख 50 हजार 902रूपये 92 पैसे खर्च किए थे ।
 
संतोष कुमार पाठक "एडवोकेट " ने प्रश्न करते हुए माननीय अमित शाह जीसे, मुख्यमंत्री जी से योगी आदित्यनाथ तथा अपने सांसद डॉ महेंद्र नाथ पांडे जी से इस सवाल किया कि क्या भाजपा अपनी रैलियों में इतना भारी-भरकम खर्च करती है? यह भारी भरकम धनराशिे रेलवे ने खर्च किया है तो यह हम लोगों का,भारत की जनता के गाढ़ी कमाई टैक्स का पैसा है.
 
क्या इसमें पैसे से मुगलसराय में कोई जन कल्याणकारी कार्य नहीं किया जा सकता था?पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के नाम पर मुगलसराय में कोई बड़ा अस्पताल या कॉलेज खोल दिया जाता तो शायद पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी को सच्ची श्रद्धांजलि होती।
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack