Monday, 19 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पुराने को नया बता शिलान्यास कर चुनाव जीतना चाहते हैं सांसद जी

पुराने को नया बता शिलान्यास कर चुनाव जीतना चाहते हैं सांसद जी
चंदौली: चुनावी साल में माननीय सांसद चंदौली सिर्फ शिलान्यास कर रहे हैं, वह भी ऐसे रेलवे ओवर ब्रिजों का जो कि तीन साल पहले ही स्वीकृत हुआ था, और रेलवे  ओवर ब्रिज 76/ए गंजख्वाजा चंदौली को 2013-14व76/सी को 2015-16 में ही स्वीकृति मिल गयी थी, अगर उस समय इनका शिलान्यास हो गया होता तो अब तक चंदौली की विकास यात्रा काफी आगे होती और ये ROB बन कर तैयार हो गए होते.
 
यह खुलासा वरिष्ठ अधिवक्ता एवं आरटीआई एक्टिविस्टों  की संस्था "रक्त " के अध्यक्ष एवंं आम आदमी पार्टी के जिला  प्रवक्ता संतोष कुमार पाठक "एडवोकेट" द्वारा रेलवे विभाग से आरटीआई एक्ट के तहत ली गई जानकारी से हुआ संतोष कुमार पाठक "एडवोकेट" द्वारा ली गयी जानकारी के हिसाब से ये सारे रेलवे ओवर ब्रिज सन 2015 में ही पास हो चुके थे,संतोष कुमार पाठक "एडवोकेट " द्वारा 11-12 -2015 को वरीय मंडल अभियंता पूर्व मध्य रेल मुगलसराय से एक आरटीआई मांगी गई थी.

जिसमें उन्होने रेलवे विभाग से पूछा था कि जनपद चंदौली के कितने स्थान पर रेलवे विभाग द्वारा रेलवे ओवर ब्रिज बनाने की स्वीकृति मिली है ? और यह स्वीकृति किन किन स्थानों पर आ•रो•बी• बनाने के लिए मिली? और कब मिली ? उनकी  इस आरटीआई के जवाब में वरीय मंडल इंजीनियर समन्वय सह मंडल जन सूचना अधिकारी पूर्व मध्य रेल मुगलसराय ने दिनांक 3 मई 2016 को यह बताया था कि कर्मनाशा- सैयदराजा के बीच बनने वाले तीन रेलवे ओवर ब्रिजों 70/c,71/c व 72/A आरओबी की स्वीकृति 2015-16 में ही मिल गई थी, 72,/बी सैयदराज-चंदौली इसका लोकेशन 649/5-7 है ,यह 2015-16 में ही स्वीकृत हो चुका है.

आरओबी एलसी नंबर 76/ सी सैयद राजा-चंदौली लोकेशन 656/9-11 यह आरोबी भी 2015 में ही मंजूर  हो चुका है,  आरओबी lC no-75/सी सैयदराजा-चंदौली  के बीच व इन्ही स्टेशनों के बीच  बनने वाला 74/ सी रेलवे ओवर ब्रिज भी2015- 16 में स्वीकृत हो चुका था.
 
एलसी नंबर72/बी यह भी आरोबी सैयदराजा चंदौली के बीच में बनने वाला था, यह भी 2015/16 में स्वीकृत हो चुका था, एलसी नंबर 75/सी यह आरोबी भी सैयद राजा चंदौली के बीच में बनने वाला था.
 
इसका लोकेशन 653/19-21 है ,यह भी 2015-16 में ही स्वीकृत हो चुका है एलसी नंबर 76 /सी चंदौली के बीच में ही बनने वाला रेलवे ओवरब्रिज है जिसका लोकेशन नंबर 656/9-11है तथा  चंदौली- गंज ख्वाजा के बीच में बनने वाला रेलवे ओवर ब्रिज इसका लोकेशन नंबर 661/19-21 है, 
ह 2015-16 में स्वीकृत हो चुका था, 
 
जबकि चंदौली गंज ख्वाजा के बीच में बनने वाला रेलवे ओवरब्रिज 761 इसका लोकेशन नंबर 657 है 2013 14 में ही स्वीकृत हो चुका था। एलसी नंबर 81/सी गंजख्वाजा- मुगलसराय के बीच में बनने वाला रेलवे ओवर ब्रिज जिसका लोकेशन 667 /37-39 है ,यह आरोबी भी सन 2015-2016 में स्वीकृत हो चुका था, गंज ख्वाजा- मुगलसराय के बीच बनने वाला दूसरा आरओबी जिसका एलसी नंबर 83 /बी है , जिसका लोकेशन नंबर 669/19-21हैयहभी 2015-16 में ही स्वीकृत हो चुका था । 
 
मेरा माननीय सांसद जी चंदौली डॉक्टर महेंद्र नाथ पांडे जी से यह प्रश्न है यह कौन सा ओवरब्रिज है जिसे अपने अभी स्वीकृत कराया है  ? अगर यह सारे ओवरब्रिज 2015-16 में यहां तक कि एल सी 76/1 रेलवे ओवरब्रिज 2013-14 स्वीकृत हो चुका था तो फिर या लोकसभा चुनाव का इंतजार किया जा रहा था क्या?
 
लोकसभा चुनाव के पहले रेलवे ओवर ब्रिजों  के शिलान्यास का मतलब क्या है ? क्या सिर्फ सहानुभूतिलेने के लिए यह शिलान्यास किया गया ? 2019 के जगह अगर 2015 -16 में ही रेलवे ओवर ब्रिजों का शिलान्यास कर दिया जाता तो शायद आज ये सारे रेलवे ओवर ब्रिज बनकर तैयार हो गए होते और चंदौली की जनता उसका लाभ उठा रही होती और परंतु यह सब चुनावी चक्कर है जनपद चंदौली की जनता भी बखूबी जानती है.

RTI BY: Santosh Kumar Pathak 01

 
RTI BY: Santosh Kumar Pathak 02


RTI BY: Santosh Kumar Pathak03


अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack