Monday, 21 January 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

उथल-पुथल से सेंसेक्स 750 अंक से ज्यादा गिरा, निफ्टी 10,300 अंक के नीचे

जनता जनार्दन संवाददाता , Oct 12, 2018, 9:27 am IST
Keywords: Sensex   Market News   Nifty   Share Market   Business   India Market  
फ़ॉन्ट साइज :
 उथल-पुथल से सेंसेक्स 750 अंक से ज्यादा गिरा, निफ्टी 10,300 अंक के नीचे नई दिल्ली: दुनियाभर के शेयर बाजारों में उठापटक के चलते गुरुवार को निवेशकों का रुख प्रभावित हुआ. घरेलू शेयर बाजार भी इससे अछूते नहीं रहे. बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 750 अंक से ज्यादा गिरकर बंद हुआ और निफ्टी भी 10,300 अंक से नीचे चला गया. विदेशी कोष की लगातार निकासी ने भी निवेशकों को चिंता में डाल दिया. बंबई शेयर बाजार का 30 कंपनियों के शेयरों पर आधारित सेंसेक्स में कारोबार की शुरुआत में 1,000 अंक से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई. 34,000 अंक के स्तर से नीचे जाकर यह 33,723.53 अंक के स्तर को छू गया. बाद में थोड़ा संभलकर अपराह्न कारोबार में यह 34,325.09 अंक तक आ गया. कारोबार के अंत में सेंसेक्स 759.74 अंक यानी 2.19 प्रतिशत गिरकर 34,001.15 अंक पर बंद हुआ. 11 अप्रैल के बाद यह सेंसेक्स का सबसे निचला बंद स्तर है. एक दिन पहले बुधवार को सेंसेक्स 461.42 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ था

उधर, घटे भाव पर लिवाली और डॉलर के मुकाबले रुपये में सुधार से देश के शेयर बाजारों में बुधवार को तेजी का रुख रहा था. बैंकिंग, ऑटो और धातु शेयरों में निवेशकों की लिवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 461 अंक उछलकर 34,760.89 अंक पर बंद हुआ था. बाजार में गिरावट के बाद बुधवार को निवेशकों की लिवाली का जोर रहा था. लिवाली समर्थन से कारोबार के दौरान करीब करीब सभी सूचकांक सकारात्मक रुख में रहे. नकदी संकट से जूझ रही गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों (एनबीएफसी) को संकट से उबारने के लिये स्टेट बैंक के आगे आने से भी कारोबारी धारणा को बल मिला. स्टेट बैंक ने एनबीएफसी की 45,000 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां खरीदने का फैसला किया है.

इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 225.45 अंक अथवा 2.16 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,234.65 अंक पर बंद हुआ. दिन में कारोबार के दौरान यह 10,138.60 अंक से 10,335.95 अंक के बीच बना रहा. अमेरिका की सरकारी प्रतिभूति दुनिया भर में जोखिम रहित परिसंपत्ति मानी जाती हैं. अमेरिका के दस साल के बॉन्‍ड पर प्रतिफल 3.15% के आसपास रहा. इसके चलते निवेशकों ने भारत जैसी उभरती अर्थव्यवस्थाओं से पूंजी की निकासी करना शुरू किया है. डॉलर के मुकाबले उभरती अर्थव्यवस्थाओं की मुद्रा भी कमजोर हुई है. इससे भी निवेशकों के बीच सावधानी भरा रुख बना हुआ है.

उल्लेखनीय है कि शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 74.50 के रिकॉर्ड निम्न स्तर पर पहुंच गया. बाद में दिन में कारोबार के समय इसमें थोड़ सुधार आया और यह 74 के स्तर पर पहुंच गया. आरंभिक आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने बुधवार को शेयर बाजार से 1,096 करोड़ रुपये की निकासी की. जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 1,893 करोड़ रुपये का निवेश किया.

अन्य बाजार लेख
वोट दें

क्या 2019 लोकसभा चुनाव में NDA पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack