Monday, 17 December 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

जायें तो जायें कहां? मजदूरी मिलती नहीं, और साहब फरियाद नहीं सुनते

अमिय पाण्डेय , Oct 09, 2018, 18:11 pm IST
Keywords: Chandauli   chandauli news   chandauli up   ADM Chandauli  
फ़ॉन्ट साइज :
जायें तो जायें कहां? मजदूरी मिलती नहीं, और साहब फरियाद नहीं सुनते
चंदौली: खबर चन्दौली से प्रदेश के मुखिया जहां गरीबों की समस्या का निस्तारण करने की बात हुए अधिकारियों को लगातार फरियादियो से उनकी समस्याओं के निस्तारण की बात कर रहे हैं लेकिन अधिकारी फरियाद सुनने के बजाय,पद की गरिमा का दुरुपयोग करते हुए दबंगई करने का मामला आया है।
 
जिला मुख्यालय स्थित कलेक्ट्रेट में अपर जिलाधिकारी पर आए दिन फरियादियो द्वारा फरियाद सुनने के बजाय  दबंगई पूर्वक गाली गलौज देते हुए कार्यालय से धक्का देकर बाहर भगाने का आरोप लगाया है ,मंगलवार को जिला अधिकारी के कार्यालय में अपर जिला अधिकारी बच्चा लाल बैठे थे वहीं अपनी समस्याओं को लेकर के बबुरी की पीड़िता निशा शर्मा और धानापुर के शतीस कुमार पीड़ित गरीब  पहुंचे थे इन गरीबों की समस्याओं को सुनने से पहले ही एडीएम साहब आग बबूला हो कर गाली देते हैं.

धक्के मार कर कार्यालय से बाहर निकलवा दिया, पीड़ित महिला कलेक्ट्रेट में रो रो कर घूमती रही और उसकी फरियाद कोई नही सुना, महिला के रोने का कारण पूछा गया तो उसने बताता कि अब हम लोग जाए तो कहाँ जाए, बड़े आशा और विश्वास के साथ हम साहब के पास आये थे ,एक तो मजदूरी करने के बाद अभी तक मजदूरी नहीं मिली, पैसे वालों ने पहले से ही पीड़ित किया है.

वही अधिकारी के पास आने पर अधिकारी समस्या सुनने से पहले ही भद्दी भद्दी गालियां दे रहे है और धक्का देकर के कार्यालय से बाहर भाग दे रहे है इस स्थिति में हम जैसे गरीब व्यक्तियों की कौन सुनेगा ,पीड़िता  ने रो रो कर कलेक्ट्रेट पहुंचे सपा के विधायक प्रभु नारायण यादव से अपनी आपबीती बताई ,वही सपा के सकलडीहा विधायक में उसकी बात को सुनकर कर कहा कि प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री जी से गुहार लगने गए अपने पार्टी के सोनभद्र के सांसद को बाहर कर देते हैं जब उनकी बात नहीं सुनते तो भला अधिकारी आम लोगों की बात कैसे सुनेगे.

हालांकि एडीएम की शिकायत पहले से ही फरियादियो द्वारा लगातार की जाती रही है ।अगर अधिकारी इस तरह का बर्ताव करेंगे तो आम लोगों के बीच में सरकार की छवि बद से बदतर हो जाएगी,इस मामले पर जब अपर जिलाधिकारी बच्चा लाल से पूछा गया तो सीधे-सीधे कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।
अन्य गांव-गिरांव लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack