Friday, 19 October 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

स्थानीय निकाय चुनावों को लेकर कश्मीर घाटी में सुरक्षा बढ़ाई गई

जनता जनार्दन संवाददाता , Oct 07, 2018, 17:31 pm IST
Keywords: Kashmir Security   Security forces   Kashmir local body polls   Kashmir Valley   Kashmir poll   Kashmir situation   कश्मीर घाटी   स्थानीय निकाय चुनाव   सुरक्षा   सुरक्षाजांच और गश्त  
फ़ॉन्ट साइज :
 स्थानीय निकाय चुनावों को लेकर कश्मीर घाटी में सुरक्षा बढ़ाई गई श्रीनगर: कश्मीर घाटी में स्थानीय निकाय चुनाव को लेकर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए हैं और सुरक्षा बलों ने सुरक्षा जांच और गश्त बढ़ा दी है जिससे लोगों में मतदान को लेकर किसी तरह का डर न रहे। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी।

पहले चरण का मतदान आठ तारीख को है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘मतदान को सुगमतापूर्वक संपन्न कराने के लिये सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए हैं।’’

उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने मतदान के मद्देनजर शहर और घाटी के दूसरे इलाकों में गाड़ियों की जांच, जामा तलाशी और इलाके में गश्त बढ़ा दी है।

उन्होंने कहा, ‘‘शहर में कई चेक-प्वाइंट बनाए गए हैं जहां गाड़ियों की जांच की जा रही है। गाड़ियों की जांच के लिये खोजी कुत्तों की भी मदद ली जा रही है। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि कोई अप्रिय घटना न हो।’’

अधिकारी ने कहा कि मतदान के लिये सुरक्षित माहौल देना एक चुनौती थी लेकिन विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के बीच अच्छा तालमेल है और घाटी के लोगों में सुरक्षा की भावना बढ़ाने के लिये कई कदम उठाए गए हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम पूर्ण सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं। अधिकतर उम्मीदवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया और कुछ को सुरक्षा भी प्रदान की गई है। इलाके को अभियान और अतिरिक्त सुरक्षा बलों की मौजूदगी से सुरक्षित किया जा रहा है इसके साथ ही गश्त भी बढ़ाई गई है।’’

उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों की तैनाती पर काम किया गया है और संवेदनशील इलाकों का ध्यान रखा गया है।
अधिकारी ने कहा कि मतदान केंद्रों पर सुरक्षा सख्त है और उनके आसपास मजबूत सुरक्षा घेरा है।



कश्मीर में सीआरपीएफ के महानिरीक्षक रविदीप सिंह शाही ने कहा, ‘‘समूची कश्मीर घाटी में माहौल नियंत्रण में है और लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करने की कोशिश की जा रही है जिससे वे बेखौफ होकर मतदान के लिये आ सकें।’’
अन्य प्रांत लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack