Wednesday, 21 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

चंदौली के दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, माना कि जिला पिछड़ा है

चंदौली के दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, माना कि जिला पिछड़ा है चंदौलीः सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज चंदौली के दौरे के दौरान यह माना कि असीम संभावनाओं के बावजूद यह जिला देश के तमाम पिछड़े जिलों में एक है. मुख्यमंत्री आज चंदौली के दौरे पर यहां आए थे. इस क्रम में उन्होंने चंदौली के सदर विकास खण्ड के नरसिंहपुर गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय में स्मार्ट क्लास उपस्थित लोगों से संवाद किया। प्राथमिक विद्यालय के निरीक्षण के दौरान अपने सामने मुख्यमंत्री को देख बच्चे काफी खुश दिखे।

मुख्यमंत्री ने प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय की कक्षा में जाकर बच्चों मिड डे मील , शिक्षा , किताब के बाबत जानकारी ली। उन्होंने विद्यालय परिसर स्थित आंगनवाड़ी केंद्र का भी निरीक्षण किया। उन्होंने यहां 8 दिव्यांगों को ट्राइसाइकिल व कृत्रिम अंग, 5 बच्चों का अन्नप्राशन के अलावा मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री आवास योजना के 5-5 लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र प्रदान किया। इस दौरान स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को 2 करोड़ 9 लाख 35 हजार का डेमो चेक, आजीविका मिशन के तहत 3 महिलाओं को आजीविका एक्सप्रेस का सर्टिफिकेट प्रदान किया।

इस कार्यक्रम के बाद अपने उद्बोधन में उन्होंने कहा कि चंदौली में विकास की असीम संभावनाएं हैं। तमाम औद्योगिक संस्थाएं हैं, फिर भी यह जिला पिछड़ा है। वास्तविकता में यहां बदलाव जरूरी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 115 अति पिछड़े जिलों में चंदौली को भी शामिल किया है। यहां शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि विकास, रोजगार के क्षेत्र में बहुत कुछ करने की जरूरत है। पहले विकास के इंडेक्स में इस जिले को अन्य जिलों के बराबरी में लाना है।

उन्होंने नरसिंहपुर के प्राथमिक विद्यालय के सुंदरीकरण की तारीफ करते हुए कहा कि यदि ऐसे ही जिले के प्रत्येक विद्यालय की तस्वीर हो जाए, विद्यालयों में योग्य शिक्षकों की तैनाती हो जाए तो शिक्षा का विकास अपने आप हो जाएगा। यहां विकास की असीम संभावनाएं हैं, बस जरूरत है सही मार्गदर्शन की। उन्होंने कहा कि सरकार व प्रशासन पिछड़ापन दूर नहीं कर सकता, इसके लिए समाज के हर वर्ग को साथ देना होगा। सकारात्मक सोच से ही जिले का विकास किया जा सकता है।

उन्होंने प्रदेश में धान के कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली में एक जिला एक उत्पाद के तहत शुगर फ्री चावल की ब्रांडिंग के लिए जिलाधिकारी को आवश्यक कार्यवाही शीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि शुगर फ्री चावल की ब्रांडिंग हो जाने से यहां के किसानों को अपनी ऊपज का लाभकारी मूल्य मिलेगा। इस दौरान उन्होंने कलेक्ट्रेट सभागार जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक में में विकास कार्यों की समीक्षा की और जिले को अग्रणी बनाने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिया
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack