Friday, 21 September 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

क्‍या कांग्रेस की कोशिशें नहीं चढ़ रही हैं परवान? कपिल सिब्‍बल का महागठबंधन पर बड़ा बयान

जनता जनार्दन संवाददाता , Sep 07, 2018, 18:09 pm IST
Keywords: Congress Party   Kapil Sibal   Congress Leader   Big Statement of sibal   Election Input  
फ़ॉन्ट साइज :
क्‍या कांग्रेस की कोशिशें नहीं चढ़ रही हैं परवान? कपिल सिब्‍बल का महागठबंधन पर बड़ा बयान नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने फिलहाल 2019 के लिए किसी तरह के महागठबंधन से इनकार किया है. NDTV से खास बातचीत में सिब्बल ने कहा कि अभी महागठबंधन को लेकर कोई चर्चा नहीं है और कांग्रेस विभिन्न राज्यों में वहां के हालात के हिसाब से गठजोड़ करेगी. जब उनसे पूछा गया कि क्या राहुल गांधी इस गठबंधन के नेता होंगे तो सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस के नेता तो राहुल गांधी हैं बाकी जहां तक महागठबंधन के नेता की बात है यह चुनाव परिणाम आने के बाद तय होगा. सिब्बल का कहना है कि सीटों पर समझौता आपसी बातचीत करके तय होगा.

सिब्बल का कहना है कि उन्होंने ऐसे ही इस सरकार का कच्चा चिट्ठा नहीं खोला है बल्कि साथ में आंकड़ें भी दिए हैं. सिब्बल का कहना है कि सरकार ने किसानों की याद 4 साल बाद आई जब उन्‍होंने उनके लिए नया समर्थन मूल्य जारी किया, लेकिन इसको लागू करने के लिए एक मिशनरी की जरूरत होगी जो बनाई नहीं गई है. यह इस सरकार का नया जुमला है.

इस सरकार ने नोटबंदी किया मगर रिजर्व बैंक ने सरकार की पोल खोल दी. उन्‍होंने कहा कि काला धन खत्म हो जाएगा और जाली नोट बंद हो जाएंगे. आतंकवाद खत्म हो जाएगा मगर हुआ कुछ नहीं हुआ. ये प्रधानमंत्री बिना सोचे समझे घोषणाएं करते हैं मगर जब सिब्बल से यह पूछा गया कि आपके तमाम दलीलों के बावजूद बीजेपी राज्य दर राज्य चुनाव कैसे जीतती जा रही है तो सिब्बल का जबाब था कि चुनाव के दौरान बीजेपी वातावरण का ध्रुवीकरण करती है जिससे वोट बांटता है दूसरे इन चुनावों में विपक्ष इकट्ठा नहीं था.

सिब्बल का मानना है कि पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी की तमाम लोकप्रियता के बावजूद बीजेपी को 31 फीसदी ही वोट मिले, यानि 70 फीसदी जनता उन्हें नाकार रही थी. सिब्बल का कहना है कि भाषण करना एक बात है और शासन करना एक बात है. पेट्रोल 86 रुपये प्रति लीटर हो गया, जो काम कांग्रेस 60 साल में नहीं कर सकी बीजेपी ने 60 महीने में कर दिखाया. दाल 150 रुपये किलो हो गया इन्होने कर दिखाया. इस राज्य में अघोषित आपातकाल है.
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack