अलविदा: पंचतत्व में विलीन हुए पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी

अलविदा: पंचतत्व में विलीन हुए पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी नई दिल्लीः पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न और बीजेपी के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेयी पंचतत्व में विलीन हो गए हैं. गुरुवार शाम पांच बजकर पांच मिनट पर नई दिल्ली के एम्स में पूर्व पीएम वाजपेयी ने अंतिम सांस ली. शुक्रवार शाम को नई दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया. अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी  पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने शाम पांच बजे मुखाग्नि दी.

इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी समेत बड़ी हस्तियां मौजूद रहीं. सेना के तीनों अंगों के प्रमुखों ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को सलामी दी.

भूटान नरेश जिग्मे खेसर, अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका के विदेश मंत्रियों समेत कई विदेशी नेताओं ने भी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.   

गुरुवार शाम से उनके पार्थिव शरीर को उनके आवास पर रखा गया था, जहां दिग्गज नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. शुक्रवार सुबह नौ बजे उनके पार्थिव शरीर को भारतीय जनता पार्टी के मुख्यालय लाया गया, जहां पर आम लोगों समेत वीवीआईपी लोगों ने उनके अंतिम दर्शन किए.

शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा भारतीय जनता पार्टी के मुख्यालय से शुरू हुई जो स्मृति स्थल जाकर रुकी.

अंतिम यात्रा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस समेत बीजेपी के कई दिग्गज शामिल हुए. ये सभी नेता पूरी अंतिम यात्रा में आम लोगों के साथ पैदल बीजेपी मुख्यालय से स्मृति स्थल पहुंचे.
 
अटल बिहारी वाजपेयी देश की सक्रिय राजनीति में पांच दशक से ज्यादा समय तक रहे. वे देश के पहले गैरकांग्रेसी प्रधानमंत्री थे. उन्होंने अपना पहला लोकसभा चुनाव 1952 में लड़ा, हालांकि पहली जीत उन्हें 1957 में मिली. तब से 2009 तक वे लगातार संसदीय राजनीति में बने रहे. 1977 में वे पहली बार मंत्री बने, जबकि 1996 में वे 13 दिन के लिए प्रधानमंत्री भी रहे.

हालांकि 1998 में उन्हें एक बार फिर पीएम बनने का मौका मिला. उनकी ये सरकार भी सिर्फ 13 महीने चली लेकिन इसके बाद हुए लोकसभा चुनाव में एनडीए गठबंधन के बहुमत वाली सरकार बनी और वाजपेयी ने पीएम के रूप में अपना कार्यकाल पूरा किया. 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में वे लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए.

बड़े अपडेट्स: -

06.19 PM: पीएम मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी की अंत्येष्टि के बाद ट्वीट किया, अटल जी, आप हमेशा हर भारतीय के दिल और दिमाग में रहेंगे. देश के लिए आपके अप्रतिम योगदान को बयान करने के लिए कोई शब्द न्याय नहीं कर सकते हैं.

05.50 PM: अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गहरा दुख जताया है. उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा, 'अटल बिहारी वाजपेयी के निधन से सिर्फ मैं ही नहीं, बल्कि पूरा देश दुखी है. वो भारत के एक महान सुपूत थे. उन्होंने अपना पूरा जीवन राष्ट्र को समर्पित कर दिया. उन्होंने सार्वजनिक जीवन में जो मापदंड रखे, वो सार्वजनिक जीवन में हर कार्यकर्ता के लिए अनुकरणीय है. फिर चाहे वो मर्यादा या समावेशी संस्कृति का हो या फिर भाईचारे का हो या देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने का हो.'

04.57 PM: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने मुखाग्नि दी.

04.39 PM: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू, मंत्रोच्चार किया जा रहा है.

04.29 PM: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर से तिरंगा वापस लपेटा गया. अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू.

04.25 PM: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.

04.19 PM: भूटान नरेश ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अंतिम श्रद्धांजलि दी.

04.15 PM: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्मृति स्थल पहुंच पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.

04.05 PM: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.

04.00 PM: तीनों सेना प्रमुखों ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को सलामी दी.

03.56 PM: सेना के तीनों अंगों के जवानों ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को सलामी दी.

03.51 PM: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद समेत कई बड़े नेता स्मृति स्थल पहुंचे.

03.46 PM: स्मृति स्थल पहुंचा अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर

03.40 PM: अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी स्मृति स्थल पर पहुंचे.

03.25 PM: दिल्ली स्थित ब्रिटिश हाई कमीशन ने अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में झंडे को झुकाया.

03.01 PM: कुछ ही देर में अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा स्मृति स्थल पहुंचेगी.
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack