Tuesday, 20 August 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

आधा केरल बाढ़ की चपेट में, 29 की मौत, 54000 बेघर, सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 11, 2018, 17:12 pm IST
Keywords: Kerala flood   Kerala Rain   Rain kills   Kochi Airport   Met deprtament   Heavy Kerala Rain   Idukki dam   Cheruthoni dam   Idukki reservoir   Pinarayi Vijayan   केरल   मूसलाधार बारिश   बाढ़   पिनाराई विजयन   बाढ़ प्रभावित  
फ़ॉन्ट साइज :
आधा केरल बाढ़ की चपेट में, 29 की मौत, 54000 बेघर, सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान तिरुवनंतपुरम: केरल के कई जिलों में मूसलाधार बारिश और बाढ़ के चलते अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने शनिवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित जिलों का दौरा किया। आपको बता दें कि करीब आधा केरल बाढ़ से प्रभावित है और हजारों लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है।

सीएम ने खुद राहत कार्यों को संज्ञान में लिया है और त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सीएम ने बाढ़ में मरने वालों के परिजनों के लिए 4 लाख और घर व जमीन गंवाने वालों के लिए 10 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है।

बताया जा रहा है कि बारिश की वजह से इडुक्की बांध के पानी का स्तर काफी ज्यादा हो गया था। इस कारण 26 साल बाद इसे खोलना पड़ा। गुरुवार सुबह करीब 600 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। सीएम विजयन खुद इस पर नजर रखे हैं।

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बताया, 'हमने आर्मी, नेवी, कोस्ट गार्ड और एनडीआरएफ से मदद मांगी है। तीन एनडीआरएफ की टीमें रेक्स्यू के लिए पहुंच चुकी हैं। 2 टीमें पहुंचने वाली हैं और 6 टीमों को कॉल किया गया है। नेहरू ट्रोफी बोट रेस को रद्द कर दिया गया है।'

केरल में बाढ़ ने 54 हजार लोगों को प्रभावित किया है।

आपदा नियंत्रण कक्ष के सूत्रों के अनुसार, इडुक्की में भूस्खलन में 10 लोगों, मलप्पुरम में 5, कन्नूर में 2 और वायनाड जिले में 1 की मौत हो गई। वायनाड, पलक्कड और कोझिकोड जिलों में एक-एक व्यक्ति लापता बताए जा रहे हैं। इडुक्की के अडीमाली शहर में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गई। पुलिस और स्थानीय लोगों ने मलबे से दो लोगों को जिंदा बाहर निकाला।

नेवी की ओर से दक्षिणी नवल कमांड ने वयानड में फंसे लोगों को बचाने के लिए चार टाइविंग टीमें और एक सी किंग हेलिकॉप्टर भेजा है। इसके अलावा भारतीय थल सेना की ओर से भी अयान्नकुलु, इदुक्की और वयानड में लगभग 75 जवानों की टीम भेजी गई है। दो और टीमें कोझिकोड और मलप्पुरम भेजी जा रही हैं। जल्द ही इंजिनियरिंग टास्क फोर्स की तीन टीमें भी भेजी जाएंगी।

भारी बारिश से कांजीकोड और वालायर के बीच रेलवे ट्रैक को भी नुकसान पहुंचा है। इस रूट पर रेल सेवाएं रोक दी गईं हैं। डीआरएम और अन्य अधिकारियों ने यहां का दौरा भी किया। ट्रैक को ठीक करने का काम जारी है। उम्मीद है कि जल्दी ही इसे शुरू किया जा सकेगा।

पेरियार नदी में बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए कोच्चि एयरपोर्ट के डूबने की आशंका है। गुरुवार को यहां कई घंटों के लिए फ्लाइट रोक दीं गईं। एयरपोर्ट नदी के पास है। शुक्रवार को भी यहां उड़ाने प्रभावित हो सकती हैं। इडुक्कीबांध खोलने से ही पेरियार नदी में पानी बढ़ा है।

राज्य में बारिश से बिगड़े हालात के चलते कई इलाकों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है. वायनाड में 14 अगस्त तक रेड अलर्ट जारी किया गया है तो इडुक्की में 13 अगस्त तक के लिए चेतावनी जारी की गई है. कोट्टायम, एर्नाकुलम, मलप्पुरम, पलक्कड़, कोझिकोडे में भी 11 अगस्त तक हाई अलर्ट जारी किया गया है.

राज्य में बीते 50 वर्षों में पहली बार बारिश से इतनी भीषण तबाही हुई है. भारी बारिश और डैम से छोड़े गए पानी के चलते नदी नालों में उफान आ गया है. रेस्क्यू के लिए सेना और नौसेना की टीमों को तैनात किया गया है. आसमानी आफत ने केरल की तस्वीर ही बदल दी है. गांव, खेत-खलियान सब डूबे हुए हैं. सैलाब की तबाही में अब तक 29 लोगों की मौत हो गई जबकि 54,000 से ज्यादा लोग बेघर हुए हैं.

पिछले दो दिनों में दस हजार से ज्यादा लोगों को 157 राहत शिविरों में भेजा गया है. बाढ़ और बरसात के पानी की वजह से जगह-जगह भूस्खलन की घटनाएं हो रही हैं. ऐसी ही एक घटना कन्नूर जिले हुई, जहां भूस्खलन की वजह से दो मकान अचानक भरभराकर ढह गए. केरल के इडुक्की जिले में बरसात और बाढ़ की तबाही सबसे ज्यादा है. जहां पिछले 40 सालों में पहली बार चेरुथोनी बांध के पांचों शटर खोलने पड़े हैं.

केरल में मची इस तबाही से इमरजेंसी लग गई है. स्कूल, कॉलेज, दफ्तर सब बंद कर दिए गए हैं. चिंता की बात ये है कि मौसम विभाग ने केरल में अभी और ज्यादा बरसात का अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग के मुताबिक केरल में इस साल अबतक औसत से 19 फीसदी ज्यादा बरसात हो चुकी है.
अन्य प्रकृति लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack