सुकमा में मुठभेड़ः सुरक्षाबलों ने छत्तीसगढ़ में 15 नक्सलियों को मार गिराया

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 06, 2018, 17:48 pm IST
Keywords: Maoists   Maoists killed   Chhattisgarh encounter   Security forces   Chhattisgarh   Sukma district   Sukma gunfight   Sukma encounter   सुकमा मुठभेड़   छत्तीसगढ़ मुठभेड़   सर्च ऑपरेशन   नक्सली   नक्सली मुठभेड़  
फ़ॉन्ट साइज :
सुकमा में मुठभेड़ः सुरक्षाबलों ने छत्तीसगढ़ में 15 नक्सलियों को मार गिराया रायपुरः छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षाबलों को नक्सलियों के एक बड़े समूह को मार गिराने में बड़ी कामयाबी मिली है. कोंटा के नुलकातुंग के जंगल में सोमवार तड़के पुलिस और नक्सलियों के बीच सीधी मुठभेड़ हुई. मुठभेड़ के दौरान 15 नक्सली मारे गए. जबकि एक महिला नक्सली को घायल हालत में डीआरजी के जवानों ने गिरफ्तार कर लिया है.

डीजीपी (एंटी नक्सल) डी.एम. अवस्थी ने बताया कि इस मुठभेड़ में करीब 16 नक्सलियों के मारे जाने की आशंका है. हालांकि मौके से 14 नक्सलियों के शव बरामद किए गए हैं. जंगल में सर्च ऑपरेशन जारी है. यह मुठभेड़ नुलकातुंग गांव के करीब गोलापल्ली और कोंटा के बीच हुई. मौके से 16 हथियार बरामद हुए हैं. जिनमें 4 ऑटोमेटिक वेपन्स, दो देसी कट्टे और दर्जन भर रायफल शामिल हैं.

डीजीपी के मुताबिक पुलिस को यह स्पेसिफिक इनपुट मिला था कि गोलापल्ली-कोंटा के बीच बड़ी तादात में नक्सली एकजुट हुए हैं. इसके बाद ही सुरक्षा बल मौके की तरफ रवाना हो गए. इलाके में दो स्थानों पर एंटी नक्सल ऑपरेशन किया अभी भी जारी है.

डीजीपी डी.एम अवस्थी के मुताबिक सुकमा में दो अलग अलग स्थानों पर डीआरजी और एसटीएफ की टीम ऑपरेशन कर रही है. इनमे से एक स्थान गोलापल्ली में ऑपरेशन खत्म हो गया है. यहां सुरक्षा बलों की टीम नक्सलियों के शवों के साथ वापस अपने कैंप में लौट रही है. उनके मुताबिक एक महिला नक्सली मुठभेड़ में घायल हुई है. उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

अवस्थी ने इसी इलाके से कुछ दूरी पर एक और ऑपरेशन के जारी होने की सूचना दी है. गोपनीयता का हवाला देकर उन्होंने उस स्थान का खुलासा नहीं किया है. उन्होंने कहा कि ये दोनों ऐसे स्थान हैं, जहां अभी तक सुरक्षा बलों ने दस्तक नहीं दी थी. इसका फायदा उठाकर नक्सली इन इलाकों में अपने कैंप संचालित कर रहे थे.

छत्तीसगढ़ के डीजीपी (एंटी नक्सल) डी.एम. अवस्थी ने वर्ष 2022 तक राज्य से पूरी तरह से नक्सलवाद के सफाये का दावा किया है. उन्होंने कहा कि अभी भी वक्त है, नक्सली हथियार डालें वरना मरने के लिए तैयार रहें.
अन्य प्रांत लेख
Niva Ply, Plywood for Generations
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack