फर्जी खबर पर रोक के लिए सोशल मीडिया से जुड़े 700 यूआरएल बंद: राज्यसभा में रविशंकर प्रसाद

फर्जी खबर पर रोक के लिए सोशल मीडिया से जुड़े 700 यूआरएल बंद: राज्यसभा में रविशंकर प्रसाद नई दिल्लीः सरकार ने सोशल मीडिया के जरिये फर्जी खबरों के हो रहे प्रसार रोकने के लिये पुख्ता कार्रवाई करने का दावा करते हुए कहा है कि फेसबुक और ट्विटर जैसे प्रमुख सोशल मीडिया प्लेटफार्म से जुड़े लगभग 700 वेबपोर्टल के यूआरएल बंद किये गये हैं।

इलैक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि फर्जी खबरों को रोकने के लिये सरकार ने फेसबुक और ट्विटर सहित सभी सोशल मीडिया कंपनियों की जवाबदेही तय करते हुये इस पर कड़ी निगरानी के लिये कहा है।

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया ने बेशक, जनसामान्य को सवाल उठाने का सशक्त मंच मुहैया कराया है। सरकार ने सवाल उठाने के जनता के अधिकार को मजबूत बनाते हुये इसकी आड़ में फर्जी खबरों को रोकने की भी पहल की है। इसके तहत सोशल मीडिया कंपनियों ने आईटी कानून के दायरे में कार्रवाई करते हुये तमाम यूआरएल ब्लॉक किये हैं।

प्रसाद ने बताया कि इस साल जून तक फेसबुक ने 499, यूट्यूब ने 57, ट्विटर ने 88, इंस्टाग्राम ने 25 और टंबलर ने 28 यूआरएल बंद किये हैं। उल्लेखनीय है कि कई सदस्यों ने सोशल मीडिया के माध्यम से फैली फर्जी खबरों के कारण पीट पीट कर मार डालने की घटनाओं का हवाला देते हुये सरकार से इसे रोकने के लिये किये गये उपायों की जानकारी मांगी थी।

इसके जवाब में प्रसाद ने बताया कि निसंदेह भारत एक उभरती हुयी डिजिटल ताकत है, लेकिन इससे इतर सोशल मीडिया कंपनियां ‘कंटेंट’ को लेकर अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकती हैं। उन्होंने मीडिया की भी जिम्मेदारी तय करने से जुड़े सवाल के बारे में कहा कि उन्होंने विभागीय अधिकारियों को इस बारे में भारतीय प्रेस परिषद से मशविरा करने को कहा है।
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack